Privacy Policy

यह गोपनीयता नीति बताती है कि जन भारत टाइम्स (“कंपनी”) (‘janbharattimes.com’ या ‘साइट’ के रूप में संदर्भित) सूचना एकत्रण और प्रसार प्रथाओं का उपयोग किस तरह करती है जब भी उपभोगकर्ता www.janbharattimes.com, वेबसाइट का उपयोग करते है। इस नीति का उपयोग janbharattimes.com में उपयोगकर्ता के डाटा के लिए गोपनीयता की नीति को समझना है, उपयोगकर्ता का अधिकार और हमारे उपयोगकर्ता अपनी गोपनीयता को कैसे नियंत्रित कर सकते हैं।
रजिस्ट्रेशन

आपसे एकत्रित की गई सभी जानकारी सेवा निर्भर है और इसका इस्तेमाल जन भारत टाइम्स अपनी सेवाओं में सुधार, रखरखाव और नई सेवाओं के विकास के लिए कर सकता है।

ऐसी कोई भी जानकारी जो सार्वजनिक तौर पर हर जगह उबलब्ध हो या फिर सूचना के अधिकार अधिनियम 2005 का हिस्सा हो या फिर उस समय किसी भी अन्य कानून का पालन करती हो उसे संवेदनशील नहीं माना जाएगा।

कुकीज

जन भारत टाइम्स या इसके सहायक और सहयोगी में अन्य वेबसाइट्स के लिंक शामिल हैं। ऐसी साइट्स उनकी संबंधित गोपनीयता नीति द्वारा शासित होती है, जो हमारे नियंत्रण के बाहर है। एक बार आप हमारा सर्वर छोड़ दें, (आप कह सकते हैं कि आपके ब्राउजर में दिए गए लोकेशन बार पर यूआरएल को चेक कर सकते हैं), फिर आप जिस भी साइट को देख रहे हैं और उस पर आपने जो जानकारी दी है, वो उस साइट के ऑपरेटर की गोपनीयता नीति द्वारा शासित होती है। वह नीति हमारी नीति से अलग हो सकती है। अगर आपको साइट के होमपेज या लिंक द्वारा इन वेबसाइट्स की गोपनीयता नीति नहीं मिलती है, तो फिर आप अधिक जानकारी के लिए सीधे साइट से संपर्क कर सकते हैं।

जब आप हमारी साइट पर आएंगे तो पाएंगे कि हमारे वेब सर्वरस स्वचालित रूप से आपके कंप्यूटर के इंटरनेट से कनेक्शन, जिसमें कुकीज, आपका आईपी एड्रेस के बारे में सीमित जानकारी एकत्र करते हैं। हो सकता है की हम कुकीज का इस्तेमाल करें, जिससे विशेष रूप से आपकी रूचि के अनुसार विज्ञापन के लिए मदद मिल सके, और अपनी प्राथमिकताओं या पासवर्ड को सहेजने के लिए, ताकि जब भी आप हमारी साइट पर आएं तो आपको दोबारा दर्ज नहीं करना पड़े। हमारे विज्ञापनदाता भी अपनी कुकीज आपके ब्राउज़र पर निर्दिष्ट कर सकते हैं (अगर आप उनके विज्ञापन पर क्लिक करें तो)। हम इस जानकारी का उपयोग अनुरोध के आधार पर हमारे वेब पेजेस आपको, हमारी साइट के ट्रैफिक को मापने के लिए और विज्ञापनदाताओं को भौगोलिक स्थानों की जानकारी देने के लिए जहां से हमारे आगंतुक आएं हैं। हमारी कुकीज नीति के बारे में अधिक जानकारी के लिए और कैसे प्रबंधित करें, इसके लिए यहां क्लिक करें।

जानकारी साझाकरण
जन भारत टाइम्स या इसकी सहायक और सहयोगी कंपनी अपने उपयोगकर्ता की पूर्व सहमति के बिना किसी भी तीसरे पक्ष को निम्नलिखित सीमित परिस्थितियों में उनकी व्यक्तिगत जानकारी साझा कर सकते हैं:

कानून, अदालत या किसी सरकारी एजेंसी या प्राधिकरण द्वारा पहचान के सत्यापन के उद्देश्य से, साइबर घटनाओं की जांच समेत अभियोजन पक्ष और अपराधों की सजा के लिए अनुरोध के आधार पर, बेहतर विश्वास और यकीन बनाए रखने के लिए इनका खुलासा करना आवश्यक हो ।

हम हमारी व्यावसायिक इकाइयों में से किसी अन्य कंपनी के साथ व्यक्तिगत पहचान व योग्य जानकारी भी स्थानांतरित कर सकते हैं, यदि हमारी कंपनी या कंपनी की किसी भी इकाई को किसी अन्य कंपनी को बेचा जाता है।

सामाजिक वेबसाइटों या हमारे विज्ञापनदाताओं के साथ वाली वेबसाइटों पर आपकी गतिविधियों के बारे में आपकी गतिविधियों को थर्ड पार्टी के साथ साझा कर सकती है ताकि वे हमारे उपयोगकर्ताओं को समझ सकें और हमारी वेबसाइट पर विज्ञापन के मूल्य की पुष्टि कर सकें।

ऐसी स्थिति में जन भारत टाइम्स या इसकी सहायक और सहयोगी कंपनी अपनी ओर से अधिकारियों और कर्मचारियों की या समूह से जुड़ी व्यक्तिगत जानकारी को संसाधित करने के उद्देश्य से ऐसा कर सकती है। हम यह भी सुनिश्चित करते हैं कि ऐसी जानकारियों को हमारे प्राप्तकर्ता हमारे निर्देशों के आधार पर सुरक्षा के लिहाज से इनकी गोपनीयता बनाए रखने के लिए भी सहमत हैं।

कम्यूनिकेशन
हम न्यूज़लेटर्स, मार्केटिंग या प्रचार सामग्री सहित अन्य जानकारी के माध्यम से आपसे संपर्क करते हुए आपकी व्यक्तिगत जानकारी का उपयोग कर सकते हैं।

निजी जानकारी हासिल करना और उसे अपडेट करना
जब आप जन भारत टाइम्स की वेबसाइटों का उपयोग करते हैं, तो हमारी पूरी कोशिश रहती है आपके सामने अधिक से अधिक प्रमाणिक और तथ्यपूर्ण जानकारी हम पेश करें। आपके अनुरोध पर आपके द्वारा उपलब्ध कराई गई जानकारी, संवेदनशील व्यक्तिगत डाटा गलत या अधूरा पाए जाने पर सुधार कर उसमें बदलाव करते हुए प्रकाशित किए जाएंगे। इसका प्रकाशन तभी संभव होगा कि यह निजी जानकारी या संवेदनशील व्यक्तिगत डाटा या जानकारी कानून के अधीन या वैध व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए जरूरी हो।

हम अलग-अलग उपयोगकर्ताओं से खुद की पहचान बनाने के लिए कहते हैं। अनुरोधों को स्वीकार करने से पहले उपयोग की जाने वाली जानकारी को सही किया जाता है या हटा दिया जाता है। हम उन अनुरोधों को संशोधित कर सकते हैं जो अनुचित रूप से दोहराए जा रही हो या व्यवस्थित हैं। जिन तथ्यों में असमान तकनीकी प्रयासों की आवश्यकता है, जो दूसरों की गोपनीयता को खतरे में डाल रहे हैं, या बेहद अव्यवहारिक हो (उदाहरण के लिए, बैकअप टेप पर रहने वाली जानकारी से संबंधित अनुरोध), या जिसे हासिल करना आवश्यक नहीं है। उस पर विशेष सतर्कता बरती जाती है। किसी भी मामले में जहां हम सूचना पहुंच और सुधार प्रदान कर सकते हैं, वहां हम इस सेवा को नि:शुल्क निष्पादित करते हैं। आपकी जानकारी को हटाने के बाद, हम कुछ सेवाओं को बनाए रखने के तरीके के कारण, अवशिष्ट प्रतियों को हमारे सक्रिय सर्वर से हटाए जाने से पहले कुछ समय लगा सकते हैं और इसके लिए हम हमारे बैकअप सिस्टम में आपकी सामग्री या जानकारी रख सकते हैं।

सूचना सुरक्षा
हम अनधिकृत एक्सेस के साथ अनधिकृत डाटा को खत्म करने के लिए उचित सुरक्षा उपाय करते हैं। इनमें हमारे डाटा संग्रह, भंडारण और प्रसंस्करण प्रथाओं और सुरक्षा उपायों की आंतरिक समीक्षा शामिल है। इतना ही नहीं व्यक्तिगत डाटा संग्रहीत करने के लिए उचित डाटा एन्क्रिप्शन और भौतिक सुरक्षा उपायों सहित सिस्टम के अनधिकृत उपयोग के खिलाफ भी सुरक्षा शामिल होती है।

जन भारत टाइम्स पर एकत्रित सभी जानकारी सुरक्षित रूप से जन भारत टाइम्स नियंत्रित डाटाबेस में संग्रहीत होती है। फायरवॉल के पीछे सुरक्षित सर्वर में डाटाबेस संग्रहीत किया जाता है, जिसकी वजह से सर्वर तक जाने वाले पासवर्ड सुरक्षित रहते हैं। हालांकि, हमारे सुरक्षा उपाय काफी प्रभावी हैं लेकिन फिर भी कोई सुरक्षा प्रणाली अभेद्य नहीं है। जिसकी वजह से हम अपने डाटाबेस की पूर्ण सुरक्षा की गारंटी नहीं दे सकते हैं। इसके अलावा हम यह गारंटी भी नहीं दे सकते हैं कि आपके द्वारा प्रदान की जाने वाली जानकारी को इंटरनेट पर प्रेषित होते समय अवरुद्ध नहीं किया जाएगा। ऐसा इसलिए भी है क्योंकि चर्चा से जुड़ी कोई भी जानकारी जो इंटरनेट में पोस्ट की जा चुकी है वो हर व्यक्ति के लिए उपलब्ध है।

हालांकि इंटरनेट एक सतत विकसित माध्यम है। बता दें, हम भविष्य में हुए बदलावों को देखते हुए अपनी गोपनीय नीतियों में आवश्यक बदलाव कर सकते हैं। बेशक, हमारे द्वारा एकत्र की जाने वाली किसी भी जानकारी का उपयोग हमेशा उस पॉलिसी के अनुरूप ही किया जाएगा। जिसके तहत वह सूचना एकत्र की गई है, भले ही नई नीति में कोई भी बदलाव किया गया हो।

जब आप हमारी वेबसाइट पर जाते हैं तो हम विज्ञापन देने के लिए तीसरे पक्ष की विज्ञापन कंपनियों का उपयोग करते हैं। ये कंपनियां (आपके नाम,पता, ईमेल या फोन नंबर छोड़कर) विज्ञापन या फिर अन्य वेबसाइटों पर जाने पर आपके बारे में जानकारी का उपयोग कर सकती है।

प्रतियोगिता के लिए नियम व शर्तें
प्रतियोगिता में हिस्सा लेने वाले सभी अभ्यर्थियों को ये प्रमाणित करना होगा कि उनके द्वारा भेजा गया कंटेंट (लेख) उनकी खुद की मूल रचना है और वो किसी भी तरह से कॉपीराइट, ट्रेडमार्क, नैतिक अधिकार, निजता के अधिकार/ इंटलेक्चुअल प्रॉपर्टी के प्रसार के अधिकार का उल्लंघन नहीं करता हो। इसके साथ ही किसी भी तरह से कोई अन्य पक्ष उस मूल कंटेंट पर अपना दावा न करता हो।

अभ्यर्थी द्वारा भेजा गया कंटेंट किसी भी प्रकार से अश्लीलता पूर्ण, मानहानि करने वाला, यौन भावना पैदा करने वाला, विवादित या अनुचित न हो। अभ्यर्थी ये सुनिश्चित कर लें कि किसी भी प्रकार के विवाद की स्थिति में प्रतियोगिता भारत सरकार के कानूनों के अधीन है। किसी भी प्रकार के विवाद का निपटारा नई दिल्ली कोर्ट की न्यायप्रक्रिया के अधीन होगा।

प्रतियोगिता में हिस्सा लेने वाले प्रतिभागी इन (a) इन आधिकारिक नियमों के तहत बाध्य होंगे (b) जजों का फैसला अन्तिम एवं सर्वमान्य होगा (c) अगर प्रतिभागी जीतता है तो स्पॉन्सर, विजेता के कंटेंट का इस्तेमाल, विनर्स का नाम या भविष्य में होने वाले किसी भी प्रसार या विज्ञापन में बिना किसी अनुमति के कर सकता है (सिर्फ कानून के उल्लंघन को छोड़कर) पुरस्कार पर लगने वाले सभी केंद्रशासित, राज्य/ प्रांत/ लोकल टैक्स, फीस, सरचार्ज और टैक्स (विदेशी या देश से जुड़ी आय, सेल्स और इम्पोर्ट टैक्स) विजेता द्वारा देय होंगे।

अगर पुरस्कार या विनर की घोषणा (नोटिफिकेशन) के दस दिन के भीतर विजेता संपर्क कर पुरस्कार राशि ग्रहण नहीं करता है या पुरस्कार लेने से मना कर देता है तो ऐसी स्थिति में ये स्पॉन्सर का अधिकार होगा कि पुरस्कार को किसी भी अन्य प्रतिभागी या विनर को दिया जाए या नहीं।

स्पॉन्सर को ये पूरा अधिकार है कि वो प्राप्त हुई सभी एंट्रीज की मूलत: जांच करे (अभ्यर्थी के निवास और उसकी पहचान समेत)। जो भी एंट्री प्रक्रिया के नियमों का उल्लंघन करता हो या अभ्यर्थी की एंट्री मूल न हो तो उसे प्रतियोगिता से स्पॉन्सर बाहर कर सकता है।

किसी भी स्तर पर अपने किसी भी अधिकार को लागू करने के लिए प्रायोजक का विफल होना उन अधिकारों की छूट नहीं देता है। जन भारत टाइम्स के प्रिंट और ऑनलाइन में कंटेस्टेंट द्वारा दिए गए कंटेंट को पुन: प्रयोग किया जा सकता है।

प्रतियोगिता खत्म करने का अधिकार
यदि किसी भी कारण से प्रतियोगिता कंप्यूटर वायरस, बग, सर्विस अटैक, छेड़छाड़, अनाधिकृत हस्तक्षेप, धोखाधड़ी, तकनीकी विफलता या नियंत्रण से परे किसी भी अन्य कारणों से प्रतियोगिता योजनाबद्ध रूप से चलाने में सक्षम नहीं है या फिर जन भारत टाइम्स की प्रशासन, सुरक्षा, निष्पक्षता, अखंडता या इस प्रतियोगिता के उचित आचरण को भ्रष्ट या प्रभावित करती है तो जन भारत टाइम्स अपने विवेकाधिकार के आधार पर किसी भी व्यक्ति को अयोग्य घोषित करने का अधिकार सुरक्षित रखता है। यदि प्रायोजक प्रतियोगिता को रद्द या समाप्त करने का विकल्प चुनता है, तो प्रायोजक जमा की गई सामग्री में कोई अधिकार नहीं रखेगा।

डाटा प्राइवेसी
आपके द्वारा दी गई जानकारी को ऑफिस के लिए सिर्फ इस्तेमाल किया जाएगा। इस जानकारी में आपका नाम और पता शामिल है। इसके साथ ही आपको द्वारा दी गई जानकारी यानी पहचान, मेल पता, और अन्य जानकारी को सत्यापित करने के लिए भी इसका इस्तेमाल किया जा सकता है।

पर्सनल डाटा हटाना एवं एक्सपोर्ट निति
रजिस्टर्ड उपयोगकर्ता अपने प्रोफ़ाइल से अपने व्यक्तिगत डाटा को प्रबंधित, निर्यात या हटा सकते हैं।

संस्थान के नियमों में बदलाव
यह गोपनीयता नीति शीर्ष पर उल्लिखित लास्ट डेट के रूप में प्रभावी है और भविष्य में इसके प्रावधानों में किए गए किसी भी बदलाव के संबंध में प्रभावी रहेगी, जो इस पृष्ठ पर पोस्ट होने के तुरंत बाद प्रभावी होगी। हम किसी भी समय हमारी गोपनीयता नीति को अपडेट या बदलने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं और आपको समय-समय पर यह गोपनीयता नीति जांचनी चाहिए। पॉलिसी में कोई भी बदलाव, संशोधन होते ही तत्काल प्रभाव से लागू होगा। यदि हम इस गोपनीयता नीति में कोई भी परिवर्तन करते हैं, तो हम आपको आपके द्वारा प्रदान किए गए ईमेल पते के माध्यम से या हमारी वेबसाइट पर एक प्रमुख नोटिस देकर सूचित करेंगे। इस पृष्ठ पर नीति में कोई भी संशोधन पोस्ट करने के बाद सेवा का आपका निरंतर उपयोग संशोधनों की आपकी स्वीकृति और संशोधित नीति का पालन करने और बाध्य होने की आपकी सहमति का गठन करेगा।

To Top