World

Taliban in Afghanistan: क्या है तालिबान की ‘क्लियर कट पॉलिसी’, भारत के लिए आया खास मेसेज

Taliban in Afghanistan: अफगानिस्तान में हालात इस वक्त बेहद खराब हैं, अफरा तफरी में लोगों की जानें जा रही हैं. एक तरफ जहां तालिबान शांति से नया अफगानिस्तान बनाने की बात कर रहा है तो दूसरी तरफ संगठन के हथियारबंद लोगों की तस्वीरों व वीडियोज ने भय का माहौल पैदा कर दिया है.

अफगानिस्तान की कई महिलाओं का बयान आ चुका है, वे कहते हैं तालिबान कई सालों से वहां के लोगों, खासकर महिलाओं व बच्चों पर बंदूक की नोक से जुर्म ढा रहा है, ऐसे में सत्ता में आने के बाद न जाने देश का क्या हश्र होने वाला है, अफगानिस्तान के पूर्व उपराष्ट्रपति अमरुल्ला सालेह कहते हैं किसी भी कीमत पर तालिबान के सामने नहीं झुकेंगे, वहीं एक अफगानिस्तान की पहली महिला मेरी जरीफा कहती हैं तालिबानी आएं और उन्हें मार दे, वह अपना मुल्क व परिवार नहीं छोड़ सकती हैं.

मुल्क में ताकतवर लोगों की तक नींद उड़ चुकी है, देश के राष्ट्रपति अशरफ गनी (Ashraf Ghani) पहले ही अपने प्रशासन के साथ देश छोड़ चुके हैं, ऐसे में अफगानिस्तान (Afghanistan) का कल कैसा होगा किसी को अंदाजा नहीं, हां आम व गरीब इंसान बुरी तरह फंस चुका है. पाकिस्तान न्यूज चैनल से बतचीत के दौरान तालिबान के एक प्रवक्ता का बयान भारत के लिए भी महत्वपूर्ण है.

तालिबान प्रवक्ता सोहेल शाहीन (Shoail Shaheen Taliban Spokesperson) का कहना है भारत, अफगानिस्तान में अपने प्रोजेक्ट्स या अधूरे निर्मित कार्य को पूरा करे, भारत को परियोजनाओं को पूरा करना चाहिए, ये आवाम के लिए ही है, साथ ही सुहेल शाहीन का कहना है उनके मुल्क अफगानिस्तान की सरजमीं में कोई भी देश किसी और के खिलाफ काम नहीं कर सकता है, इसकी वे इजाजत नहीं देंगे.

फेसबुक से तालिबान को आतंकी संगठन कहकर बैन किया जा रहा है लेकिन ट्विटर पर तालिबान के कई चेहरे एक्टिव हैं. वीडियो में आप सुन सकते हैं पाकिस्तानी पत्रकार ने जब सोहेल से दोबारा सवाल किया कि, इंडिया ने अफगानिस्तान में बड़ा निवेश किया है मगर उन्होंने तालिबान को कभी तवज्जो नहीं दी, क्या आप भारत के साथ अच्छे ताल्लुकात चाहते हैं, सोहेल ने अपनी बात दोहराते हुए कहा कि उनके निर्माण कार्यों में रोड, इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट्स जैसी चीजें है जो जनता के काम आयेगी.

आपको बता दें अफगानिस्तान की राजधानी पर तालिब ने कब्ज़ा कर दिया है, इतना लगभग तय हो गया है कि इस देश में तख्तापलट (Taliban in Afghanistan) हो चुका है. अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने हाथ खड़े कर दिए हैं, उनका सीधा कहना है अफगानिस्तान आर्मी ने हथियार डाल दिए ऐसे में उनकी मदद करना संभव नहीं, राष्ट्रपति गनी पर भी उन्होंने भड़ास निकाली, बोले कि बिना लड़े देश छोड़ के भाग गए.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

To Top