world

COVID-19 Vaccine: व्लादिमीर पुतिन का दावा उनके देश ने दी दुनिया को पहली कोरोना वैक्सीन, बेटी को लगा टीका

Coronavirus Vaccine: जिस महामारी ने साल 2020 को मनहूस बना दिया आखिरकार फिर एक बार जोरों शोरों से उसका इलाज का दावा किया जा रहा है लेकिन इस बार बड़े दावे के साथ इस वायरस का खात्मा करने की बात कही गई है.

रूस के फिट व उर्जावान राष्ट्रपति व्‍लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) ने डंके की चोट पर ऐलान कर दिया है कि उनके देश ने दुनिया को पहली कोरोना वैक्सीन (Coronavirus Vaccine) दे डाली है. कहा जा रहा है गामलेया रिसर्च इंस्टिट्यूट ने एडेनोवायरस को बेस बनाकर वैक्‍सीन बनाई गई है जो पूरी तरह इस संक्रमण से छुटकारा दिलाने में कारगर है.

यह भी पढ़ें:  COVID 19 India: भारत में 54 लाख के पार कोरोना संक्रमितों की संख्या, 88 हजार के पास लोगों ने तोड़ा दम

राष्ट्रपति व्लादमीर पुतिन की बेटीयों को लगाया गया पहला टीका

मॉस्‍को के गामलेया रिसर्च इंस्टिट्यूट ने जिस वैक्सीन (COVID-19 Vaccine) को बनाया है उसका पहला टीका राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की बेटीयों को लगाया गया है, यह भी राष्ट्रपति ने खुद दावे के साथ किया है.

उन्होंने कहा आज सुबह दुनिया में पहली बार, कोरोना वायरस से लड़ने के लिए वैक्सीन रजिस्टर्ड हुई है, उन्होंने उन सभी का शुक्रिया अदा किया जिन्होंने दिन-रात इसे बनाने में मेहनत की. इनमें से कई लोगों द्वारा इसका टीका लगाया जा चुका है.

एक तरफ जहां रूस ने बड़े बड़े दावों के साथ इस वैक्सीन को पेश किया है, बहुत जल्द यह आम नागरिकों तक भी पहुंचने वाली है तो दूसरी तरफ इसे जल्दबाजी बताया जा रहा है, 1 हफ्ते में इस रफ्तार से सब कुछ ओके होना अचंभित कर रहा है.

यह भी पढ़ें:  COVID 19 India: भारत में 54 लाख के पार कोरोना संक्रमितों की संख्या, 88 हजार के पास लोगों ने तोड़ा दम

वहीं मल्‍टीनैशनल फार्मा कंपनीज की एक एसोसिएशन ने बिना क्लिनिकल ट्रायल पूरा किए इसे सिविल यूज की इजाजत मिलना खतरा बताया है. रूस का दावा है कि यह उनकी 20 वर्षों के शोध का नतीजा है, किस तरह वायरस मानव शरीर में फैलते हैं व कैसे इन्हें नष्ट किया जाता है, यह बड़ी रिसर्च का परिणाम है.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



To Top