Politics

Kamla Harris: भारत मूल की कमला हैरिस भारत सरकार के नीतियों के खिलाफ है, कश्मीर मुद्दे पर दे चुकी हैं धमकी

Kamla Harris: भारतीय मूल की कमला देवी हैरिस को ताकतवर मुल्क अमेरिका में उपराष्ट्रपति पद का टिकेट मिल चुका है, डेमोक्रेटिक पार्टी की तरफ से उन्हें यह बड़ी जिम्मेदारी सौंपी गई है जिसके बाद से भारत में खुशी का ठिकाना नहीं है, जाहिर सी बात है भारत का नाम रोशन हो रहा है.

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा (Barack Obama) और विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन (Hillary Clinton) जैसे नामी गिरामी शख्सियतें उनके समर्थन में हैं, उम्मीद की जा रही है वह चुनाव जीत सकती हैं लेकिन भारत में कुछ लोगों का दिल तब टूट गया जब उन्हें पता चला कि भारत मूल की कमला देवी हैरिस (Kamla Harris) भारत सरकार की नीतियों से इत्तेफाक नहीं रखती हैं.

यह भी पढ़ें:  Jaya Bachchan vs Ravi Kishan: फरहान अख्तर ने जया बच्चन व रवि किशन विवाद मामले में कह दी ये बात

सोशल मीडिया पर लोग उन्हें एंटी हिंदू भी बता रहे हैं, बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत ने भी उनकी एक विडियो शेयर करते हुए तंज कसा कि इस देश को दुश्मनों ने कम अपनों  ने ज्यादा बर्बाद किया है. कश्मीर में अनुच्छेद 370 व 35 ए हटने व संसोधित नागरिकता कानून लेकर आने को वह भारत सरकार के खिलाफ थी.

कश्मीरी लोगों के लिए उन्होंने संदेश देते हुए भारत सरकार को धमकी दे डाली थी कि ‘हम कश्मीरी लोगों के साथ हैं, उन्हें याद दिला दें कि वे दुनिया में अकेले नहीं हैं, कश्मीर किस दौर से गुजर रहा है हम इस पर नजर बनाए हुए हैं, जरूरत पड़ने पर मुद्दों पर हस्तक्षेप करेंगे’. वहीं दूसरी तरफ लोगों का कहना है चीन व पाकिस्तान की घुसपैठ व हरकतों पर वह कुछ नहीं बोलती हैं.

यह भी पढ़ें:  Population Control Law: सोशल मीडिया पर उठी जनसंख्या नियंत्रण कानून लाने की मांग, शेयर हुए चौंकाने वाले आंकड़े

ऐसे में वह चुनाव जीतती हैं तो भारत के लिए क्या उनका रवैया होगा इसका अंदाजा लगाया जा सकता है. अमेरिका के वर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump), कमला हैरिस के कट्टर विरोधी हैं, उनका मानना है कमला अमेरिका मूल की नहीं हैं तो उन्हें उपराष्ट्रपति नहीं बनने देना चाहिए, अपने एक भाषण में वह कमला को मैड वीमेन तक कह चुके हैं.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



To Top