Viral: हैदराबाद के ट्रैफिक पुलिस जी बाबजी ने जीता देश का दिल, 7 वर्षीय बेटी की प्रतिक्रिया देख रो पड़े बाबजी

JBT Staff
JBT Staff November 7, 2020
Updated 2020/11/07 at 10:27 AM

Viral: कुछ लोग अपने काम को इतनी सिद्दत से करते हैं कि रियल हीरो का टैग पा लेते हैं, एम्बुलेंस के लिए 2 किलोमीटर तक जाम हटाने का काम करने वाले G Babji आज सुर्खियों में हैं, सड़क पर आते जाते लोग उनके काम की सराहना कर रहे हैं, उनके साथ सेल्फी क्लिक करवा रहे हैं.

बीते सोमवार की शाम के बाद एक विडियो इतनी तेजी से वायरल हुई कि हर भारतीय को बड़े दिलवाले ट्रैफिक पुलिस पर नाज हुआ, कांस्टेबल जी बाबजी (G Babji) ने हैवी ट्रैफिक को दरकिनार करते हुए किसी अजनान की मुश्किल घड़ी में वो कर दिखाया जिससे बेहतर कुछ नहीं हो सकता था, इसमें कोई दोहराय नहीं कि यह उनका फर्ज है लेकिन बहुत कम ही ऐसे नेक दिल होते हैं जो इतनी सिद्दत से काम करते हैं.

हैदराबाद पुलिस द्वारा उन्हें इस बेहतरीन काम के लिए सम्मानित किया गया है, बीते सोमवार को 6 से 7 बजे के बीच लोग घरों की तरफ जा रहे थे, जाहिर सी बात है इस वक्त ट्रैफिक चरम पर होता है. बाबजी की नजर एम्बुलेंस पर पड़ी तो उन्होंने हैवी ट्रैफिक को दौड़ते हुए क्लियर किया. एम्बुलेंस के ड्राईवर की दुविधा को समझते हुए बाबजी ने बताया कि उन्होंने ट्रैफिक को हरसंभव हटाने का प्रयास किया, इस बीच किसी को डांटना पड़ा, किसी को प्यार से समझाना पड़ा.

जीपीओ जंक्शन, आंध्र बैंक की तरफ दौड़ लगाकर कांस्टेबल की नेकी को देखते हुए लोग तालियां बजाने लगे, कुछ बाइक सवार बड़ों ने उनकी पीठ थपथपाई. एम्बुलेंस के अंदर बैठे शख्स ने उनकी विडियो शूट कर तुरंत वायरल कर दी, पिता का ग्रेट जेस्चर देखकर 7 वर्षीय बेटी भी उनके घर आने का इंतजार करती रही, तब तक आज के क्रिएटिव दौर के बच्चों में से एक बेटी ने कांग्रेचुलेशन डैडी लिखकर, इस क्राफ्ट में हार्ट व स्माइली बनाए थे, जसी देखकर वह रो पड़े.

आपको बता दें इससे पहले कई पुलिस वाले इसी तरह सिद्दत प्यार से काम करते हुए देखें जा चुके हैं. ओड़ीशा के प्रताप हों या इंदौर के रणजीत, इतनी खूबसूरती से अपने काम को करते हैं कि लोग भी खुद ब खुद सहयोग देने लगते हैं.

इस तरह बढ़ा रहे हैं लोग हौंसला:

यह है वायरल विडियो:

हैदराबाद पुलिस ने बढ़ाया बाबजी का साहस:

Share this Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.