धोनी की वजह से बर्बाद हुआ इन 3 विकेटकीपर का करियर, अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में नहीं मिले ज्यादा मौके

Umesh
Umesh December 9, 2018
Updated 2018/12/09 at 2:27 PM
MS Dhoni may retire after world cup 2019

महेंद्र सिंह धोनी का नाम विश्व के महानतम विकेटकीपर बल्लेबाजों में लिया जाता है. पिछले 14 सालों से धोनी भारतीय टीम में विकेटकीपर के तौर पर डटे हुए हैं. उनकी वजह से इन तीन शानदार खिलाड़ियों को प्याप्त मौके नहीं मिले.

महेंद्र सिंह धोनी को आज विश्व का सबसे बेहतरीन विकेट कीपर बल्लेबाज माना जाता है. उनके बिना आज भी भारतीय टीम मैदान पर उतरने की सोच भी नहीं सकती है. वनडे और टी-20 क्रिकेट में आज भी धोनी के हाथों में भारतीय टीम के फिनिशर और एक विकेट कीपर की कमान है. पिछले 14 सालों से धोनी ये भूमिका शानदार तरीके से निभा रहे हैं.

इन 14 सालों में धोनी ने ऐसा शानदार खेल दिखाया कि कोई और विकेटकीपर बल्लेबाज टीम में जगह ही नहीं बना सका. आज हम आपको ऐसे तीन बड़े विकेटकीपर बल्लेबाजों के बारे में बताने जा रहे है, जिन्हें धोनी के चलते अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में ज्यादा मौके नहीं मिले.

रॉबिन उथप्पा

रॉबिन उथप्पा ने अपने करियर की शुरुआत में भारत के लिए काफी शानदार पारियां खेली थी. लेकिन उनके साथ धोनी भी टीम में अपनी कहानी आने वाले समय के लिए लिख चुके थे. धोनी के चलते उथप्पा को ज्यादा मौके नहीं मिले. उथप्पा ने भारत की तरफ से 46 मैच खेले जिसमें उनके बल्ले से 934 रन निकले.

इसके अलावा उथप्पा भारत की तरफ से 13 टी-20 मैचों में 249 रन भी बना चुके है. उथप्पा आज भी घरेलू क्रिकेट में जमकर रन कूट रहे हैं. आईपीएल में भी उथप्पा हमेशा शानदार प्रदर्शन करते रहे हैं.

पार्थिव पटेल

पार्थिव को एक समय भारतीय टीम का सफल विकेट कीपर माना जाने लगा था. विदेशी पिचों पर पटेल बाकी भारतीय कीपर्स की तुलना में बेहतर बल्लेबाज थे. 2002 से 2004 के बीच पार्थिव ने विदेश में कई बेहतरीन पारियां खेली.

पार्थिव ने हर बार वापसी के बाद खुद को साबित किया लेकिन धोनी की वजह से वो टीम में खुद को स्थापित नहीं कर पाए. पार्थिव के करियर की बात करें, तो उन्होंने 38 वनडे में रन: 736, दो टी-20 मैच में 36 रन और 25 टेस्ट मैचों में 934 रन बनाए है.

दिनेश कार्तिक

एक समय धोनी से पहले दिनेश को भारतीय टीम के विकेट कीपर के तौर पर चुना गया था. दिनेश ने धोनी से पहले भारतीय टीम में एंट्री ली थी. लेकिन धोनी के टीम में आते ही उनका बाहर का रास्ता तय हो गया. हालांकि, कार्तिक को जब भी मौका मिला वह टीम के लिए शानदार प्रदर्शन करते रहे.

कार्तिक के करियर की बात करें, तो उन्होनें 86 वनडे मैचों में 1663 रन, 27 टी-20 मैचों 352 और 26 टेस्ट में 1025 रन बनाए है. आज भी कार्तिक को टीम में जगह मिल जाती है.

Share this Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.