Cricket

क्रिकेट के सुपर ओवर से जुड़े ये 4 दिलचस्प नियम, जिसके बारे में जानना आपके लिए बेहद जरूरी

Super Over in Cricket: क्रिकेट की दुनिया में कई ऐसे नियम है जिन्हें जानना खेल प्रेमियों के लिए काफी मुश्किल हो जाता है. पिछले कुछ सालों में इस खेल से जुड़े कई नियमों में बदलाव किए गए, तो कई दिलचस्प नियमों को क्रिकेट से जोड़ा भी गया.

सुपर ओवर का विकल्प इनमें से एक है. सुपर ओवर के बारे में आप लोगों ने कई बार सुना और देखा भी होगा. जब दोनों टीमों के बीच टाय मुकाबला होता है तो मैच का परिणाम सुपर ओवर के तहत निकाला जाता है.

जिसमें दोनों टीमों को मैच जीतने के लिए एक ओवर दिया जाता है. सुपर ओवर को ‘वन ओवर एलिमिनेटर’ भी कहा जाता है. इसका प्रयोग ज्यादातर टी-20 क्रिकेट में होता है.

यह भी पढ़ें:  WORLD CUP DIARY: 2007 में ऑस्ट्रेलिया ने लगाई थी जीत की हैट्रिक, भारत के क्रिकेट इतिहास में दर्ज हुआ था काला दिन

आईपीएल 2019 में दो बार सुपर ओवर देखें जा चुके है. पहला दिल्ली कैपिटल्स और कोलकाता नाइटराइडर्स के बीच हुआ था, जिसमें दिल्ली विजेता बनी थी और दूसरा मुंबई इंडियंस और सनराइजर्स हैदराबाद के बीच हुआ था जिसमें मुंबई विजेता बनी थी.

लेकिन सुपरओवर के दौरान हर किसी के मन में इसके नियम को लेकर कई तरह के सवाल खड़े होते है. आज हम आपको इस ओवर के उन नियमों के बारे में ही बताने जा रहे है जिसके बारे में आप शायद ही जानते हो.

सुपर ओवर में नहीं होता टॉस

इस ओवर को लेकर सबसे खास बात यही रहती है कि इसमें टॉस की भागीदार मौजूद नहीं रहती. सुपर ओवर में वही टीम पहले बल्लेबाजी करती है जो दूसरी पारी में बल्लेबाजी करती है.

यह भी पढ़ें:  ICC World Cup 2019: इंग्लैंड पहुंची टीम इंडिया, 5 जून को खेलेगी टूर्नामेंट का पहला मुकाबला

सिर्फ तीन बल्लेबाजों का विकल्प रहता है मौजूद

सुपर ओवर के दौरन दोनों टीमों के पास सिर्फ 3 ही बल्लेबाजों को विकल्प मौजूद रहता है. सुपर ओवर में सिर्फ तीन बल्लेबाज ही बल्लेबाजी कर सकते है. जिनका नाम पहले से घोषित कर दिया जाता है. बल्लेबाजी करने वाली टीम के 2 विकेट गिरते ही उन टीम की पारी वहीं समाप्त हो जाती है.

अगर सुपर ओवर होता है टाय, तो ऐसे होता है विजेता का चयन

हर किसी के दिमाग में ये सवाल जरूर होता है कि अगर सुपर ओवर खेल रही दोनों टीमों के बीच यहां भी टाय मुकाबला रहता है तो विजेता का चयन कैसे होता है. बता दें कि अगर सुपर ओवर टाई हो गया तो उस ओवर में जिस टीम ने सबसे अधिक छक्के लगाए हो वही टीम विजयी होती है. अगर इस दौरान दोनों टीमों ने सबसे बराबर छक्के लगाए होते है तो उस दौरान सबसे ज्यादा बाउंड्री लगाने वाली टीम को विजेता घोषित किया जाता है.

यह भी पढ़ें:  World Cup 2019: इन 4 फील्डर्स पर टिकी होगी हर किसी की नजर, एक भारतीय भी शामिल

पुरानी बॉल से ही खेला जाता है ये ओवर

सुपर ओवर को लेकर सबसे खास बात ये रहती है कि ये ओवर नई गेंद से नहीं खेला जाता. सुपर ओवर में पुरानी बॉल का ही प्रयोग होता है जिसका चयन सुपर ओवर में पहले गेंदबाजी करने वाला कप्तान करता है.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


To Top