बॉल टेम्परिंग मामले पर स्मिथ में खोला बड़ा राज, कहा ‘मैं चाहता तो ये सब रोक सकता था’

Umesh
Umesh December 22, 2018
Updated 2018/12/22 at 6:34 PM
steve smith on ball tempering

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान स्टीव स्मिथ बॉल टेम्परिंग के आरोप में एक साल का बैन झेल रहे हैं. इस मामले पर पहली बार स्मिथ ने अपनी चुप्पी तोड़ते हुए बड़ा बयान दिया है.

बॉल टेम्परिंग के चलते एक साल का बैन झेल रहे ऑस्ट्रेलिया टीम के पूर्व कप्तान स्टीव स्मिथ ने पहली बार अपनी चुप्पी तोड़ी है. इसी साल स्मिथ के साथ-साथ वार्नर पर साउथ अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट मैच के दौरान बॉल टेम्परिंग का आरोप लगा था. अब इस मामले मैं स्मिथ ने बड़ा बयान दिया है.

स्मिथ ने बताया कि बॉल टेम्परिंग की बात उन्हीं के सामने हुई थी और वो चाहते तो उसे रोक सकते थे. इस मुद्दे पर स्मिथ ने कहा, ‘मैंने यह वार्तालाप सुना था कि गेंद को एक तरफ से रगड़ना है, इसे नजर अंदाज करते हुए मैंने कहा कि मुझे इस पर बात नहीं करनी.’

इस मामले पर खुद की भी पूरी भागेदारी रहने पर स्मिथ ने कहा, ‘यह डिस्कशन हुआ था मैंने सुना था लेकिन ध्यान नहीं दिया. इस घटना की संभावना थी और मैदान पर ऐसा ही हुआ. मैं इसे रोक सकता था लेकिन मैंने इसे नहीं रोका. मैं अपनी लीडरशिप में फेल हुआ और इसकी पूरी जिम्मेदारी लेता हूं. जब मैंने कहा कि मुझे इस बारे में बात नहीं करनी है, उस समय मैं इसे रोकता तो ऐसा नहीं होता.’

स्मिथ ने ये बयान ऑस्ट्रेलिया में हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिये दिया है. बता दें कि बॉल टेम्परिंग का ये मामला केपटाउन के मैदान पर खेली गए साउथ अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया के बीच टेस्ट मैच के दौरान हुआ था. ऑस्ट्रेलिया के कैमरन बैंक्रोफ्ट को गेंद पर सैंड पेपर रगड़ते हुए कैमरे पर देखा गया था.

इसके बाद जांच में उन्हें दोषी पाए जाने के अलावा उस समय कप्तान रहे स्टीव स्मिथ और उप-कप्तान डेविड वॉर्नर पर भी बॉल टेम्परिंग का आरोप लगा था. उसी के बाद से डेविड वार्नर और स्टीव स्मिथ काउंटी और अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से बैन है. हालांकि बैंक्रोफ्ट को केवल 9 महीने के लिए ही बैन किया गया.

Share this Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.