Cricket

पहला टेस्ट खेलने के लिए इन खिलाड़ियों को करना पड़ा लंबा इंतजार

Yuvraj Singh

एरोन फिंच ने 93 वनडे मैच खेलने के बाद अपना टेस्ट डेब्यू किया है. आइये आपको ऐसे ही कुछ खिलाड़ियों के बारे में बताते हैं, पहला टेस्ट खेलने के लिए लंबा इंतजार करना पड़ा.

दुबई में ऑस्ट्रेलिया और पाकिस्तान के पहले टेस्ट मैच के दौरान कुछ ऐसा देखने को मिला, जो हर किसी के लिए काफी हैरानी भरा था. वनडे और टी-20 के सबसे विस्फोटक बल्लेबाज ऐरोन फिंच ने करीब 31 साल की उम्र में अपना टेस्ट डेब्यू किया. फिंच ने पहली बार बतौर टेस्ट बल्लेबाज मैदान पर उतरते ही एक अनचाहा रिकॉर्ड अपने नाम भी कर लिया.

फिंच का नाम अब उन खिलाड़ियों में शामिल हो गया है, जिनका वनडे और टी-20 डेब्यू के बाद टेस्ट में सबसे ज्यादा दिनों का गैप रहा हो. फिंच को टेस्ट में पदार्पण करने के लिए 93 वनडे मुकाबलों का इंतजार करना पड़ा. हालांकि फिंच पहले ऐसे बल्लेबाज नहीं हैं, जिन्हें अपने टेस्ट डेब्यू के लिए इतना लंबा इंतजार करना पड़ा हो. आईए नडर डालते है ऐसे ही कुछ और बल्लेबाजों पर.

यह भी पढ़ें:  India Vs NZ Second T20: रोहित शर्मा के तूफान में उड़ा न्यूज़ीलैंड, भारत ने 7 विकेट से जीता दूसरा टी-20

एंड्रयू साइमंड्स

ऑस्ट्रेलिया के सबसे खतरनाक ऑलराउंडर एंड्रयू साइमंड्स को उनकी ताबड़तोड़ बल्लेबाजी के लिए जाना जाता है. साइमंड्स विश्व के बेहतरीन ऑलराउंडर्स में शुमार थे. टेस्ट में डेब्यू करने के लिए साइमंड्स को 94 वनडे मैचों का इंतजार करना पड़ा था. इसके बाद उन्होनें केवल 26 टेस्ट मैच ही खेले, जिसमें उनके बल्ले से 1462 रन निकले.

एडम गिलक्रिस्ट

विश्व क्रिकेट के जब भी सबसे बेहतरीन विकेटकीपर बल्लेबाजों की बात की जाती है, तो गिलक्रिस्ट का नाम सबसे पहले लिया जाता है. गिलक्रिस्ट ने वनडे में कई रिकॉर्ड्स कायम किए लेकिन आपको जानकार हैरानी होगी कि गिलक्रिस्ट को अपना पहला टेस्ट मैच खेलने के लिए 3 साल का इंतजार करना पड़ा था. गिली ने 25 अक्टूबर 1996 को अपना वनडे डेब्यू किया था. इसके बाद 5 नवंबर 1999 को उन्हें टेस्ट में खेलने का मौका मिला. टेस्ट डेब्यू करने से पहले वह 76 वनडे मुकाबले खेल चुके थे. गिली का टेस्ट रिकॉर्ड शानदार रहा. उन्होंने 96 टेस्ट में 47 से ज्यादा के औसत से 5,570 रन बनाए.

यह भी पढ़ें:  न्यूजीलैण्ड के खिलाफ तीसरे टी-20 में धोनी ने मैदान पर कदम रखते ही रचा इतिहास, ऐसा करने वाले पहले भारतीय क्रिकेटर बने

युवराज सिंह

2011 वर्ल्ड कप की जीत में अहम भूमिका निभाने वाले युवराज सिंह को भी टेस्ट में डेब्यू करने से पहले 73 वनडे मैच खेलने पड़े. युवी ने साल 2003 में न्यूजीलैंड के खिलाफ अपना टेस्ट डेब्यू किया था. हालांकि, युवी कभी खुद को वनडे की तरह टेस्ट में साबित नहीं कर पाए. 40 टेस्ट में युव ने 33.92 के औसत से 1900 रन बनाए.

शाहिद अफरीदी

दुनिया के सबसे खतरनाक ऑलराउंडर शाहिद अफरीदी का नाम भी उन खिलाड़ियों की सूची में आता है, जिनका टेस्ट में पदार्पण काफी देर से हुआ था. अफरीदी ने 66 वनडे मुकाबले खेलने के बाद 22 अक्टूबर 1998 को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपना टेस्ट डेब्यू किया था. इसके बाद अफरीदी ने अपनी टीम के लिए 26 टेस्ट मैच खेले. अफरीदी ने टेस्ट में 48 विकेट्स के साथ 1716 रन भी बनाए.

यह भी पढ़ें:  वर्ल्ड कप में भारत की ओपनिंग जोड़ी को लेकर दिग्गज स्पिनर शेन वॉर्न ने दी अपनी राय

रॉबिन सिंह

टीम इंडिया के फेमस ऑलराउंडर रॉबिन सिंह ने भारत के लिए 1989 में अपना वनडे डेब्यू किया था. इसके बाद रॉबिन सिंह को टेस्ट में खेलने के लिए 9 सालों का इंतजार करना पड़ा.  रॉबिन सिंह ने अपना एकमात्र टेस्ट 1998 में ज़िम्बाब्वे के खिलाफ खेला था. रोबिन को भी टेस्ट मैच डेब्यू जर्ने का मौका लगभग 90 मैचों के बाद मिला था.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


To Top