Cricket

वनडे क्रिकेट की 3 ऐतिहासिक पारियां जिन्हें भुलाना है नामुमकिन

One Day Cricket History: क्रिकेट अगर आज इतना लोकप्रिय खेल है तो इसमें कहीं न कहीं गेंदबाजों से ज्यादा बल्लेबाजों का योगदान है. वनडे क्रिकेट का अपना एक अलग ही मजा है. बात करते हैं 3 ऐतिहासिक पारियां जिन्हें भुलाना है नामुमकिन.

आज तक 4000 से ज्यादा इंटरनेशनल वनडे मैच खेले जा चुके हैं. इस 4000 मुकाबलों में हजारों शतक लगे, लाखों रन बने, कई यादगार पारियां खेली गई.

आज हम आपको वनडे क्रिकेट की ऐसी तीन पारियों के बारे में बता रहे हैं, जो इतिहास में अपना नाम दर्ज करा चुकी हैं. इस पारियों को भूलना नामुनकिन है.

रोहित शर्मा- एक पारी में 264 रन

यह भी पढ़ें:  World Cup 2019: इन 4 फील्डर्स पर टिकी होगी हर किसी की नजर, एक भारतीय भी शामिल

2014 में ईडन गार्डन में श्रीलंका के खिलाफ खेली गई रोहित शर्मा की 264 रनों की पारी को आखिर कौन भूल पाया होगा. शायद ही किसी ने सपने में भी कभी सोचा होगा कि कोई बल्लेबाज वनडे क्रिकेट में 264 रन भी बना सकता है. रोहित ने उस पारी में 173 गेंदों में 264 रन बनाए थे. इस दौरान उनके बल्ले से 33 चौक्के और 9 छक्के निकले थे. रोहित वनडे क्रिकेट में तीन दोहरे शतक लगाने वाले इकलौते बल्लेबाज हैं.

एबी डिविलिवर्स- वनडे क्रिकेट का सबसे तेज़ शतक

44 गेंदों में 149 रन और पारी में 16 छक्के, कुछ ही बल्लेबाज़ ऐसे है जो वनडे क्रिकेट में ये कारनामा कर सकते है. लेकिन साउथ अफ्रीका के दिग्गज बल्लेबाज एबी डिविलियर्स ऐसा कर चुके हैं.

यह भी पढ़ें:  विश्व कप में टीम इंडिया की टी-शर्ट में लगा होगा ये हाईटेक डिवाइस, पहले भारत ने कभी नहीं किया ऐसा प्रयोग

एबी ने ये पारी 2015 में जोहान्सबर्ग के मैदान पर वेस्टइंडीज के खिलाफ खेली थी. उस मैच में एबी ने वनडे इतिहास का सबसे तेज़ अर्धशतक और सबसे तेज़ शतक जड़ा था. एबी ने 16 गेंदों में अर्धशतक और 31 गेंदों में शतक पूरा किया था. इस पारी को आज भी वनडे क्रिकेट के इतिहास की सबसे खतरनाक पारी माना जाता है.

कपिल देव- 1983 वर्ल्ड कप में 175 रनों की नाबाद पारी

Kapil Dev holding World Cup 1983 Trophy

35 साल बाद भी कपिल देव की 1983 के वर्ल्ड कप में खेली गई पारी वनडे इतिहास की सबसे यादगार पारियों में गिनी जाती है. उस समय 175 रन बनाना किसी भी बल्लेबाज़ के लिए बड़ी उपलब्धि माना जाता था.

यह भी पढ़ें:  इस बार वर्ल्ड कप में हिस्सा लेंगे ये 5 सबसे उम्रदराज खिलाड़ी, एक की उम्र 40 से अधिक

कपिल के बल्ले से ये पारी उस समय निकली थी जब भारत का स्कोर 5 विकेट पर 17 रन था. टीम इंडिया को वर्ल्ड कप में बने रहने के लिए ज़िम्बाब्वे के खिलाफ उस मैच को जीतना बेहद जरुरी था.

कपिल का बल्ला ऐसा चला कि 175 रनों की पारी क्रिकेट इतिहास में हमेशा के लिए यादगार पारियों में दर्ज हो गयी. कपिल ने 138 गेंदों में 175 रन की पारी में 16 चौके और 6 छक्के लगाए.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


To Top