Cricket

India Vs Australia T20: भारत का पलड़ा भारी, पढ़े स्पेशल एनालिसिस रिपोर्ट

Virat Kohli Best

India Vs Australia T20: 21 नवम्बर से भारत के ऑस्ट्रलिया दौरे का आगाज होगा. दो महीनों तक चलने वाले इस दौरे का पहला टी-20 मैच 21 नवम्बर को ब्रिस्बेन में खेला जाएगा. टी-20 सीरीज में भारत का पलड़ा भारी है. पढ़े स्पेशल रिपोर्ट.

वेस्टइंडीज के खिलाफ तीन मैचों की टी-20 सीरीज में भारतीय कप्तान विराट कोहली को आराम दिए जाने पर काफी हैरान था. शायद भारतीय टीम मैनेजमेंट और खुद कोहली इस बात को अच्छी तरह से समझते है कि ऑस्ट्रेलिया का दौरा भारतीय क्रिकेट और आने वाले विश्व कप के लिए कितना अहम रहने वाला है. तभी तो वर्ल्ड चैंपियंस के खिलाफ कोहली को आराम देने का फैसला किया गया था.

कोहली अब 21 नबंवर से शुरु हो रहे ऑस्ट्रेलियाई दौरे पर एक बार फिर टीम की अगुवाई करते दिखाई देंगे. 21 नवंबर से 3 मैचों की टी-20 सीरीज के साथ भारत और ऑस्ट्रेलियाई के बीच की जंग का आगाज होगा.

यह भी पढ़ें:  विश्व कप में भारत खेल सकता है मास्टर स्ट्रोक, बदल सकता है कोहली का बल्लेबाजी क्रम

टी-20 में भारत का पलड़ा भारी

कोहली टेस्ट मैचों में ऑस्ट्रेलिया में टीम की अगुआई कर चुके है, लेकिन उनके लिए यह पहला मौका होगा जब वह वनडे और टी-20 में भारतीय टीम की कमान संभालेंगे. इस सीरीज का पहला मुकाबला ब्रिसबेन में खेला जाएगा. ऑस्ट्रेलियाई सरजमीं पर वनडे और टेस्ट की तुलना में टी-20 मैचों में भारत का प्रदर्शन काफी बेहतर रहा है. भारत ने यहां अब तक छह टी-20 मैच खेले हैं, जिसमें से चार जीते हैं और सिर्फ दो हारे है.

वहीँ अगर हालिया T20 फॉर्म की बात की जाए, तो भी भारत का पलड़ा भारी है. ऑस्ट्रेलिया ने अपने पिछले 10 टी-20 मुकाबलों में से 4 जीते हैं और 6 हारे हैं. इन चार जीतों में से तीन यूएई और ज़िम्बाब्वे जैसी टीमों से साथ आई हैं.

यह भी पढ़ें:  तीसरा टी-20 मुकाबला जीतते ही पाकिस्तान के इस विश्व रिकॉर्ड की बराबरी कर लेगा भारत

वहीँ अगर भारत की बात की जाए तो इसने पिछले 10 टी 20 मुकाबलों में से 9 जीतें हैं. इस दौरान भारत ने इंग्लैंड और वेस्टइंडीज जैसी धाकड़ टीमों को हराया है.

2008 में भारत को मिली थी पहली हार

क्रिकेट के इस सबसे छोटे फॉर्मेट में इन दोनों टीमो के बीच पहली बार मुकाबला 2008 में खेला गया था. उस समय भारती टीम की कमान धोनी के हाथों में थी. ये सीरीज केवल एक मैच की थी. उस मैच में पूरी टीम सिर्फ 74 रन पर ढेर हो गई थी. इस तरह ऑस्ट्रेलिया ने यह सीरीज 1-0 से अपने नाम की. लेकिन इसके बाद भारत ने टी-20 में कंगारुओं को कभी अपने सामने टिकने नहीं दिया.

भारत का ऑस्ट्रेलिया दौरा का टी-20 कार्यक्रम

यह भी पढ़ें:  दूसरे टी-20 में रोहित ने तोड़े 3 बड़े रिकॉर्ड, पूरा विश्व कर रहा है हिटमैन को सलाम

21 नवंबर, पहला टी-20, ब्रिस्बेन

23 नवंबर, दूसरा टी-20, मेलबर्न

25 नवंबर, तीसरा टी-20, सिडनी

भारतीय बल्लेबाजों को पसंद है ऑस्ट्रलिया के मैदान

इस दौरे पर भारतीय टीम को धोनी की कमी खल सकती है. लेकिन उनकी गैरमौजूदगी में भी भारत के पास विराट, धवन और रोहित जैसे धाकड़ बल्लेबाज हैं, जो किसी भी समय टीम को जीत दिलाने का माद्दा रखते हैं. पिछले कुछ महीनों में भारत की गेंदबाजी में भी काफी सुधार हुआ है. बुमराह, कुलदीप और चहल ने विपक्षी टीमों की नींदें उड़ा रखी है.

वही ऑस्ट्रलिया की टीम इस समय परिवर्तन के दौर से गुजर रही है. स्मिथ और वार्नर की गैरमौजूदगी में टीम की पूरी जिम्मेदारी फिंच और मैक्सवेल पर आ गई है. गेंदबाजी आक्रमण की बात करें, तो ऑस्ट्रलिया के पास एक भी अनुभवी गेंदबाज नहीं है.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


To Top