Cricket

भारत को 2 वर्ल्ड कप जिताने वाले गौतम गंभीर ने क्रिकेट को कहा अलविदा

Gautam Gambhir

टीम इंडिया के दिग्गज ओपनर रह चुके गौतम गंभीर ने क्रिकेट के सभी फोर्मट्स से संन्यास ले लिया है. गौतम ने भारत को 2007 टी-20 वर्ल्ड कप और 2011 वर्ल्ड कप जिताने में अहम भूमिका निभाई थी.

क्रिकेट के इतिहास में ऐसे बहुत ही कम क्रिकेटर्स हुए है, जिनके संन्यास लेने का दुःख फैन्स को भी उतना ही होता हो, जितना उस खिलाड़ी को ये फैसला लेते हुए होता है. सचिन, सहवाग, गांगुली और द्रविड़ जैसे खिलाडियों के संन्यास का समय तो आपको याद ही होगा.

इन दिग्गजों के बाद अब  2007 के टी-20 और उसके बाद 2011 के आईसीसी विश्व कप के फाइनल में अपनी यादगार पारियों से भारत की जीत की सुनहरी इबारत लिखने वाले हीरो गौतम गंभीर ने मंगलवार को संन्यास की घोषणा कर दी है.

यह भी पढ़ें:  9 साल बाद चेन्नई ने धोनी के बिना खेला कोई मुकाबला, जाने धोनी के बिना अब तक कैसा रहा इस टीम का प्रदर्शन

2007 टी-20 वर्ल्ड कप के हीरो

2007 का साल आपको जरूर याद होगा. ये वही साल था जब भारतीय टीम ने अपनी कहानी खुद इतिहास के पन्नों पर सुनहरे अक्षरों से अमर कर दी थी. इस साल में भारत ने पहला टी-20 विश्व कप जीतकर तहलका मचा दिया था.

भारत ने ये विश्व कप धोनी की कप्तानी में जीता था. इस विश्व कप में पाकिस्तान के खिलाफ फाइनल मुकाबले में गंभीर की पारी को शायद ही भूला जा सकता है. इस मैच में गंभीर ने भारतीय टीम की तरफ से सबसे ज्यादा 75 रन बनाए थे. गंभीर की इस शानदार पारी के दम पर टीम इंडिया ने पाकिस्तान के खिलाफ 20 ओवर में पांच विकेट पर 157 रन बनाए थे.

यह भी पढ़ें:  IPL 2019 DD vs RR Match 40 Preview: जीत को लय कायम रखना चाहेगी दिल्ली, राजस्थान के सामने करो या मरो की स्थिति

2011 वनडे वर्ल्ड कप फाइनल का हीरो

इसके अलावा गंभीर ने 2011 विश्व कप के फाइनल में 97 रनों की अहम पारी खेलकर भारत को एक बार फिर क्रिकेट का बादशाह बनाया था. इस फाइनल मैच में धोनी की पारी जितनी अहम थी, गंभीर की पारी भी उतनी ही अहम थी. अगर गंभीर इस मैच में नहीं चलते तो भारत का वक बार फिर वर्ल्ड कप जीतने का सपना अधूरा रह जाता.

पिछले दो साल में फॉर्म ने नहीं दिया था

पिछले कुछ साल गंभीर के लिए खास नहीं रहे. पिछले दो सालों से गंभीर के दिमाग में संन्यास के फैसले को लेकर झंझावत चल रहा था, लेकिन आईपीएल 2019 में दिल्ली कैपिटल्स की टीम से रिलीज किए जाने के बाद गंभीर ने आखिरकार संन्यास का फैसला ले ही लिया.

यह भी पढ़ें:  IPL 2019 CSK Vs SRH Match 41 Report: चेन्नई ने हैदराबाद को 6 विकेट से हराया, प्लेऑफ में पहुँचने वाली पहली टीम बनी

गंभीर ने भारत की ओर से 58 टेस्ट, 147 वनडे और 37 टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेले. गंभीर ने 58 टेस्ट में 41.95 की औसत से 4154 रन बनाए हैं. वनडे क्रिकेट में उनके बल्ले से 5000 से ज्यादा रन निकले. उनके टेस्ट में नौ और वनडे में 11 शतक है. टेस्ट में उनका हाइएस्ट 206 और वनडे में 150* रन है.

गौतम की कप्तानी में ही कोलकाता की टीम ने दो बार 2012 और 2014 में आईपीएल का खिताब जीता. गंभीर लम्बे समय तक दिल्ली के कप्तान रहे. दिल्ली का आंध्र प्रदेश के खिलाफ होने वाला रणजी मैच गंभीर का आखिरी मैच होगा.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


To Top