रवि शास्त्री के बयान ने इन 3 बड़े खिलाड़ियों का 2019 विश्व कप खेलने का सपना तोड़ दिया है

Umesh
Umesh November 17, 2018
Updated 2018/11/17 at 11:37 AM

भारतीय टीम के मुख्य कोच रवि शास्त्री ने हाल ही में 2019 वर्ल्ड कप के लिए भारतीय टीम के चयन को लेकर एक बड़ा बयान दिया. रवि शास्त्री का कहना है कि वो वर्ल्ड कप से पहले बचे 13 मैचों के लिए टीम में कोई बदलाव नहीं करना चाहेंगे. इसका मतलब ये है कि समय जो 15 खिलाड़ी टीम से जुड़े हुए है, वहीं खिलाड़ी अगले साल विश्व कप के लिए अपनी दावेदारी पेश करेंगे.

ऐसे में कई बड़े खिलाड़ियों का अगले साल वर्ल्ड कप खेलने का सपना टूटता हुआ दिखाई दे रहा है. आइये आपको ऐसे ही तीन बड़े खिलाड़ियों के बारे में बताते हैं.

युवराज सिंह

भारत के लिए 2007 टी-20 वर्ल्ड कप और 2011 वर्ल्ड कप की जीत में अहम भूमिका निभाने वाले युवराज सिंह पिछले काफी समय से टीम के बाहर हैं. कई लोगों को उम्मीद थी कि युवी विश्व कप से पहले टीम में वापसी करेंगे और उनके एक्सपीरियंस को तवज्जो दी जाएगी. लेकिन अब ऐसा कुछ होता हुआ नहीं दिख रहा है.

युवी की मौजूदा फॉर्म भी कुछ ठीक नहीं है. उनका बल्ला विजय हज़ारे ट्रॉफी में भी खामोश रहा था. ऐसे में अब उनकी टीम में जगह बना पाना नामुमकिन ही है. युवी ने अपना आखिरी वनडे मुकाबला 30 जून 2017 को वेस्टइंडीज के खिलाफ खेला था. ऐसे में कहने गलत नहीं होगा कि युवी अपना आखरी मैच इंटरनेशनल वनडे मैच खेल चुके हैं.

सुरेश रैना

जब तक सुरेश रैना टीम इंडिया के सदस्य थे, तो इस टीम को मिडिल ऑर्डर में कोई परेशानी नहीं होती है. लेकिन रैना को अब टीम में जगह बनाने के लिए भी खुद को साबित करना पड़ रहा है. रैना की तरफ से कुछ भी गलत नहीं हुआ. उन्होंने पिछले कुछ टूर्नामेंट्स में शानदार बल्लेबाजी भी की लेकिन भारतीय टीम मैनेजमेंट युवाओं को मिडिल ऑर्डर की जिम्मेदारी सौंपना चाहती है.

रैना ने अपना आखिरी मैच 17 जुलाई 2018 को इंग्लैंड के खिलाफ खेला था. फ़िलहाल टीम में रैना के लिए जगह बनती हुई नहीं दिख रही है. ऐसे में ये कहना गलत नहीं होगा कि रैना वर्ल्ड कप की टीम में जगह नहीं बना पाएंगे.

रविचंद्रन अश्विन

एक समय ऐसा था जब भारतीय टीम इस खिलाड़ी के बिना मैदान पर उतरने की सोच भी नहीं सकती थी. लेकिन अब चहल और कुलदीप वनडे टीम के नियमित स्पिन गेंदबाज बन गए है. शास्त्री के बयान को देखते हुए ये साफ है कि अब आश्विन का वर्ल्ड कप में खेलना मुश्किल है.

अश्विन की बात करें तो उन्होंने अपना आखिरी वनडे 18 जून 2017 को पाकिस्तान के खिलाफ खेला था. टीम से बाहर होना आश्विन के लिए दिल तोड़ने वाली बात है क्योंकि उनका प्रदर्शन हमेशा शानदार रहा है. युवा गेंदबाजों के आने से आश्विन को बाहर कर दिया गया.

Share this Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.