Rashifal

Rashifal: मकर राशि में शनि का गोचर के चलते कैसा पड़ेगा 12 राशियों पर प्रभाव, जानिए द्वादश राशियों का फलादेश

मेष राशि

मेष राशि के जातकों के लिए शनि कर्म स्थान पर संचार करेगा, जिसके चलते मेष राशि के जातकों के लिए, गर्ल्स की अधिकता एवं विघ्नों के बावजूद निर्वाह योग्य आय के साधन बनते रहेंगे, 30 जून से 19 नवंबर के मध्य गुरु की दृष्टि रहने से पदोन्नति धन लाभ एवं उच्च विद्या में सफलता के योग बनते हैं, 16 अगस्त से 3 अक्टूबर तक मंगल स्वराशिगत संचार करने से पुरुषार्थ में वृद्धि होगी, साथ-साथ सामाजिक एवं राजकीय क्षेत्र में मान प्रतिष्ठा के साथ उच्च पद की प्राप्ति भी हो सकती है, सरकारी एवं राजकीय काम बनेंगे.

वृषभ राशि

वृष राशि के जातकों के लिए शनि भाग्य स्थान में संचार करेंगे, जिसके चलते वृष राशि के जातकों के लिए भाग्य उन्नति एवं धन लाभ प्राप्ति में अर्चना एवं विलंब होंगे, निकट बंधुओं से विरोध एवं तकरार रहेंगे, पुराने विवाद उभर सकते हैं, साथ में 31 जुलाई तक राशि स्वामी शुक्र इसी राशि में संचार करने से निर्वाह योग्य आय के साधन बनते रहेंगे, एवं धार्मिक कार्य में रुचि रहेगी, 23 सितंबर से राहु ग्रह का उच्चस्थ संचार के चलते जीवन में उतर पथल प्रतियां पनप सकती है.

मिथुन राशि

राशि के जातकों के लिए अष्टम स्थान में शनि, एवं 22 सितंबर तक राहु का संचार रहने से वृद्धा की भाग दौड़ धूप एवं अनावश्यक तौर पर अधिक खर्च रहेंगे, घरेलू एवं व्यावसायिक उलझने बढ़ेगी, 30 जून से 19 नवंबर तक गुरु की दृष्टि होने से बिगड़े कामों में सुधार होने लगेगा, धर्म कर्म के कामों में रुचि बढ़ेगी,वाहन एवं पारिवारिक सुखों की प्राप्ति होगी.

कर्क राशि

कर्क राशि के जातकों पर शनि एवं मंगल की शत्रु व नीच दृश्यों के चलते, व्यावसायिक तौर पर बड़ा नुकसान होगा, पारिवारिक उलझनें बढ़ेगी, संघर्ष की अधिकता रहेगी, अनावश्यक तौर पर खर्चों में बढ़ोतरी रहेगी, 29 जून तक से गुरु की शुभ दृष्टि रहने से स्वास्थ्य में लाभ होगा, धर्म-कर्म में प्रवृत्ति एवं लाभ से उन्नति के अवसर मिलेंगे, सामाजिक एवं धार्मिक कार्यों से धन लाभ होने की संभावनाएं बनेगी, साथ में पारिवारिक सुखों में वृद्धि होगी.

सिंह राशि

सिंह राशि के जातकों के लिए शनि छठे भाव में संचार करेंगे, जिसके चलते अत्यंत कठिन एवं विपरीत परिस्थितियां पनप सकती है, साथ ही साथ विपरीत परिस्थितियों के पश्चात निर्वाह की ओर धन प्राप्ति के साधन बनेंगे, अनावश्यक तौर पर धन खर्च मे वृद्धि होगी, शारीरिक कष्ट के साथ धन संबंधित चिंताएं रहेगी,30 जून से 19 नवंबर तक गुरु की शुभ दृष्टि रहने से बिगड़े कार्य में सुधार होने लगेगा, धार्मिक कार्य मे रुचि बढ़ेगी, नोकरी एवं कार्य के क्षेत्र में पदोन्नति के योग बनेगे, में व्यावसायिक कारोबार में वृद्धि रहेगी.

कन्या राशि

कन्या कन्या राशि के जातकों के लिए शनि पंचम भाव में संचार करेगा, जिसके चलते पूर्वार्ध भाग में घरेलू एवं कारोबारी उलझनों के कारण संघर्ष एवं मानसिक तनाव में अधिकता रहेगी, आवश्यक तौर पर मतभेद उभर एंगे, साथ ही साथ शनि का रजत पाद होने से से धन लाभ होने की संभावना ही रहेगी, पूर्व में किए गए कार्यों में सफलता, पारिवारिक सुखों की प्राप्ति होगी, जीवन साथी के साथ विचारों में भिन्नता के चलते अनावश्यक तौर पर विवाद बढ़ेंगे.

तुला राशि

तुला राशि के जातकों के लिए शनि चतुर्थ भाव में संचार के चलते दया का अशुभ प्रभाव रहेगा, जिसके चलते धन हानि निकट भाई बंधुओं से कला क्लेश अनावश्यक तौर पर धन खर्च रहेगा, शनि की ढैय्या के प्रभाव के चलते घरेलू उलझाने तथा व्यावसायिक संबंधित उलझने व परेशानियां बढ़ेगी, गुप्त चिंताएं भी रहेगी, कार्य में विघ्न पैदा होंगे, सामाजिक एवं राज्य के तौर पर विरोधाभास का सामना करना पड़ सकता है.

वृश्चिक राशि

वृश्चिक राशि के जातकों के लिए शनि तृतीय भाव में संचार के चलते भूमि मकान वाहन सुख सुख सुविधाओं में वृद्धि कारक योग बनते, व्यवसायिक तोर पर उन्नति के अवसर प्राप्त होंगे, कुछ योजनाओं में फलीभूत साबित होगी, धर्म-कर्म में रूचि बढ़ेगी, एवं गृह में कोई शुभ मंगल कार्य संपादित होने के योग बनेंगे.

धनु राशि

धनु राशि के जातकों के लिए शनि द्वितीय भाव में संचार के चलते साथ में साढ़ेसाती का अशुभ प्रभाव रहेगा, आय कम व धन खर्च में अधिक बढ़ोतरी रहेगी, आरती कुल्ल जनों के चलते मन में अशांति का भाव रहेगा, शनि का पाया रजत होने से कुछ निर्वाह योग के चलते बनाई योजनाओं में सफलता प्राप्त हो सकती है, भूमि भवन भवन भवन आदि सुखों की प्राप्ति होती रहेगी, राजकीय और सामाजिक तौर पर संघर्ष की अधिकता रहेगी, साथ ही साथ किसी भी प्रकार के षडयंत्र के शिकार हो सकते हैं.

मकर राशि

मकर राशि के जातकों के लिए शनि लग्न भाव में संचार के चलते साथ में शनि की साढ़ेसाती का प्रभाव रहेगा, जिसके चलते मानसिक तथा पारिवारिक उलझने रहेगी, साथ में शनि स्वराशि संचार के चलते 30 मार्च से 29 जून तक पुन्हा 5 अप्रैल 2021 तक गुरु का संचार होने से लाभ विदेश संबंधित कार्य बनेंगे, भूमि आदि सुखों की प्राप्ति होगी, परिवार में मांगलिक कार्य हो सकते हैं, सामाजिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी, नए कार्य फलीभूत रहेंगे.

कुंभ राशि

कुंभ राशि के जातकों के लिए शनि द्वादश स्थान मे संसार करेंगे, साथ में साढ़ेसाती का भी प्रभाव रहेगा, जिसके चलते आय के साधन में कमी व खर्चों में अधिकता रहेगी, कार्य वा व्यवसायिक संबंधित उलझने रहेगी, जीवन साथी के साथ ना पूर्ण संबंध रहेंगे, जिसके चलते शारीरिक एवं मानसिक तनाव व संघर्ष अधिक रहेगा.

मीन राशि

मीन राशि के जातकों के लिए शनि लाभ स्थान में संचार के चलते साथ ही साथ इस राशि पर शनि की दृष्टि रहेगी, जिसके चलते संतान संबंधित चिंताएं बढ़ेगी, नए कार्य की योजना फलीभूत होगी, गत किए गए कार्यों में सफलता प्राप्त होगी, धन लाभ के साथ उन्नति के योग बनेंगे, साथ ही साथ विशेष संघर्ष के चलते हर कार्य मे सफ़लता मिलेगी, की अनावश्यक तौर पर मानसिक तनाव रहेगा.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



To Top