Politics

Pramod Sawant: जानिए गोवा के नए सीएम प्रमोद सावंत से जुड़ी कुछ खास बातें

Pramod Sawant with Manohar Parrikar

मनोहर पर्रिकर के निधन के बाद प्रमोद सावंत को गोवा का मुख्यमंत्री बनाया गया है. प्रमोद सावंत गोवा के 13वें मुख्यमंत्री हैं. आइये उनके बारे में आपको कुछ जरूरी बातें बताते हैं.

मनोहर पर्रिकर ने लगभग 15 सालों तक गोवा की कमान संभाली. मनोहर पर्रिकर के निधन के बाद प्रमोद सावंत को गोवा का मुख्यमंत्री बनाया गया है. प्रमोद सावंत ने गोवा के 13वें मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली है.

पर्रिकर के निधन के बाद सीएम पद के लिए प्रमोद सावंत को ही सबसे मजबूत दावेदार माना जा रहा था. पार्टी के प्रति वफादारी, पर्रिकर का चहेता होना और अगले 10-15 सालों तक पार्टी को एक युवा नेता की जरूरत, ये सभी बातें सावंत के पक्ष में रहीं.

सबसे बड़ी बात ये है कि सावंत गोवा में बीजेपी के अकेले विधायक हैं, जो आरएसएस से जुड़े हुए हैं. सीएम बनने से पहले वह पार्टी के प्रवक्ता और गोवा विधानसभा के अध्यक्ष रह चुके हैं. 2017 में जन गोवा में बीजेपी की सरकार बनी थी, तब उन्हें अध्यक्ष बनाया गया था.

बचपन से आरएसएस से जुड़े हुए हैं

सावंत गोवा में बिचोलिम तालुका के एक गांव कोटोंबी के रहने वाले हैं. सावंत बचपन से ही आरएसएस से जुड़े हुए हैं. यही वजह है कि शुरू से ही हिंदुत्व की विचारधारा के प्रति उनका झुकाव रहा है. सावंत के पिता पांडुरंग सावंत पूर्व जिला पंचायत सदस्य रह चुके हैं.

वह भारतीय जनसंघ, भारतीय मजदूर संघ के सदस्य एह चुके हैं. अगर देखा जाए तो कहीं न कहीं अपनी अपने पिता की वजह से प्रमोद सावंत बीजेपी और आरएसएस से जुड़े.

इस तरह बीजेपी के जुड़े

सावंत कुछ समय तक आरएसएस से जुड़े रहे लेकिन राजनीति में रूचि होने की वजह से उन्होंने ज्यादा आरएसएस की गतिविधियों में ज्यादा समय नहीं दिया. राजनीति के प्रति उनकी दिलचस्पी को देखते हुए 2008 में उन्हें बीजेपी में शामिल कर दिया गया.

2008 में खाली सांकेलिम (अब साखली) सीट से उन्हें चुनाव लड़ने उतारा गया. बीजेपी के कहने पर सावंत ने अपनी नौकरी छोड़कर 2008 में उपचुनाव लड़ा. सावंत हार गए लेकिन 2012 में हुए विधानसभा चुनाव में विजयी रहे.

2017 के विधानसभा चुनाव में वह एक बार फिर साखली से जीते. 2017 में मनोहर पर्रिकर के नेतृत्व वाली सरकार में उनको विधानसभा अध्यक्ष बनाया गया. गोवा के राजनीतिक इतिहास में वह सबसे कम उम्र के विधानसभा अध्यक्ष थे.

युवाओं के बीच प्रमोद का जबरदस्त क्रेज है. वह भारतीय युवा जनता मोर्चा के प्रदेशाध्यक्ष और भारतीय जनता युवा मोर्चा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रह चुके हैं.

पेशे से आयुर्वेदिक डॉक्टर हैं सावंत, पत्नी भी बीजेपी से जुड़ी हैं

प्रमोद सावंत का जन्म 4 अप्रैल 1973 को हुआ. प्रमोद सावंत का पूरा नाम डॉ प्रमोद पांडुरंग सावंत है. उनकी मां पद्मिनी सावंत और पिता पांडुरंग सावंत हैं.

प्रमोद सावंत ने आयुर्वेदिक चिकित्सा में महाराष्ट्र के कोल्हापुर की गंगा एजुकेशन सोसायटी से ग्रेजुएशन किया है. इसके बाद उन्होंने सोशल वर्क में पुणे की तिलक महाराष्ट्र यूनिवर्सिटी से पोस्ट ग्रेजुएशन किया. प्रमोद सावंत एक आयुर्वेदिक डॉक्टर हैं.

प्रमोद सावंत की पत्नी सुलक्षणा बीकोलिम के श्री शांतादुर्गा हायर सेकेंडरी स्कूल में केमिस्ट्री टीचर हैं. सुलक्षणा सावंत भी बीजेपी से जुड़ी हुई हैं. वे बीजेपी महिला मोर्चा की गोवा इकाई की अध्यक्ष हैं.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

To Top