Yogi vs Mukhtar Ansari: व्यक्तिगत भी है योगी-मुख्तार की लड़ाई, CM योगी ने बंगाल रैली से भी सुनाई खरी खोटी

JBT Staff
JBT Staff April 8, 2021
Updated 2021/04/08 at 11:07 AM

Yogi vs Mukhtar Ansari: योगी सरकार व गैंगस्टर विधायक मुख्तार अंसारी के बीच चल रहे हाईवोल्टेज ड्रामा ने यूहीं लोगों का ध्यान नहीं खींचा है, बांदा जेल पहुंचते ही देखा गया कि मुख्तार व्हीलचेयर से उतरकर चलने लगा है, वहीं बंगाल रैली में भी यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने गुंडागर्दी खत्म करने का वादा किया है.

इस बार के बंगाल विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने एड़ी चोटी का जोर लगा दिया है, स्टार प्रचारकों में से उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) भी शामिल हैं. कल बंगाल के उत्तर दिनाजपुर में जनता को संबोधित करने के दौरान योगी ने भारी भरकम डायलाग दे मारा, कहीं न कहीं मुख्तार अंसारी की तरफ इशारा करते हुए वह बोले बंगाल में ममता दीदी के राज में गुंडागर्दी बढ़ गई है.

आगे कहते हैं, 2 मई को प्रदेश में बीजेपी की सरकार आने के बाद गुंडों को नहीं बक्शा जाएगा, अपराधी चाहे कितना ही बड़ा क्यों न हो पाताल में भी छिपे होंगे तो ढूंड के जेल के अंदर किया जाएगा. ये डायलाग बांदा जेल में बंद  साढ़े 6 फीट का हिस्ट्रीशीटर विधायक मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) के कानों तक पहुंचेगा तो वह आगबबूला हो जाएगा, पर कोई फायदा नहीं है क्योंकि वह पूरी तरह कानून के शिकंजे में है.

ममता के पार्टी के कार्यकर्ताओं को ललकारते हुए योगी आदित्यनाथ बोले टीएमसी के गुंडों तुम्हें 25 दिन सुधरने के लिए मिल रहे हैं सुधर जाओ वरना जेल को सैर के लिए तैयार रहो. आपको बता दें बहुजन समाज पार्टी का बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी यूहीं इन दिनों भीगी बिल्ली नहीं बना है, 16 साल 2005 में योगी आदित्यनाथ के काफिले पर जो हमला हुआ था उसका शक मुख्तार अंसारी पर गया था.

इस साल अंसारी के विधानसभा क्षेत्र मऊ में दंगे हुए थे, इनको भड़काने का शक विधायक पर ही गया था हालांकि कभी इसकी पुष्टि नहीं हो पाई थी, जनसभाओं में तत्कालीन गोरखपुर बीजेपी सांसद योगी ने दंगे कराने वालों को जेल में डालने की बात कही थी. कई सालों तक योगी अपनी बात पर अडिग रहे, इस बीच मुख्तार व योगी के बीच जुबानी जंग शुरू हो गई, मुख्तार अंसारी ने कई बार योगी को चूहा तक कहा था.

Share this Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.