India News

Dushyant Chautala: हरियाणा डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला कृषि बिल के समर्थन में, राजनीति के मामले में लिम्का में दर्ज है नाम

Dushyant Chautala on Agriculture Bill: पिछले साल भाजपा की नीतियों से अलग बोल रहे दुष्यंत चौटाला आखिरकार भाजपा के साथ ही सरकार बनाने में सफल रहे थे. 31 वर्ष के युवक ने कांग्रेस-भाजपा की मुश्किलों को बढ़ा दिया था.

साल 2019 में हरियाणा के 90 विधानसभा सीटों पर रोमांचक मुकाबला देखने को मिल था, कहा यह भी जा रहा था कि कांग्रेस ने दुष्यंत चौटाला को स्टेट सीएम बनने तक का ऑफर दे दिया था, लेकिन भाजपा 90 में से 40 जबकि कांग्रेस 31 पर ही चुनाव जीत दर्ज कर सकी, इस तरह भाजपा और जननायक जनता पार्टी (JJP) का गठबंधन हुआ और 31 वर्ष में JJP प्रमुख सीएम नहीं लेकिन डिप्टी सीएम बने.

यह भी पढ़ें:  Hardoi Honor Killing: बेटी व चचेरे भाई को आपत्तिजनक हालत में देखा तो सर काट ले गया थाने, कत्ल का अफसोस नहीं

कृषि बिल (Agriculture Bill) का भाजपा सहयोगी दलों में भी विरोध चल रहा है जबकि दुष्यंत चौटाला ने कृषि बिल के समर्थन में बयान देते हुए कहा कि MSP पर कोई असर पड़ा तो वह अपने पद से इस्तीफा देने को तैयार हैं. युवा नेता दुष्यंत चौटाला ने हरियाणा की राजनीति में बनाया है खास मुकाम, जानिए उनके बारे में दिलचस्प बातें.

कौन हैं दुष्यंत चौटाला?

आपको बता दें दुष्यंत बड़े राजनीतिक घराने से ताल्लुक रखते हैं, वह चौटाला फैमली की चौथी पीढ़ी हैं जो पॉलिटिक्स में उतर आए हैं. वह भारत के पूर्व उप प्रधानमंत्री चौधरी देवीलाल के परपोते व हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला (Om Prakash Chautala) के पोते हैं. साल 2014 में, सबसे कम उम्र के सांसद दुष्यंत चौटाला की उम्र उस वक्त मात्र 25 साल 11 महीने 15 थी. लोकसभा क्षेत्र हिसार से उन्होंने जीत दर्ज की थी.

यह भी पढ़ें:  Narendra Modi Stadium: दुनिया के सबसे बड़े स्टेडियम सरदार पटेल स्टेडियम का नाम नरेंद्र मोदी स्टेडियम हुआ, विपक्ष बौखलाया

सबसे कम उम्र के सांसद रह चुके दुष्यंत का नाम लिम्का बुक ऑफ रेकॉर्ड (Limca Book of World Record) में दर्ज है. पूर्व मुख्यमंत्री भजनलाल के बेटे कुलदीप विश्नोई को हराकर वह लोकसभा सदन में पहुंचे थे.

इंडियन नैशनल लोकदल (INLD) से निकाले जाने के बाद इस युवा नेता ने खुद की पार्टी गठित कर दी, 9 दिसंबर, 2018 को जननायक जनता पार्टी (JJP) का गठन किया गया और इस तरह वह बन गए रियल जननायक. आज वह इस मुकाम पर हैं कि आगे उनके हाथों में हरियाणा की सत्ता आ सकती है, या वह खुद सीएम बनेंगे या किंगमेकर का रोल अदा करेंगे.

यह भी पढ़ें:  Axar Patel: अक्षर पटेल के इंटरव्यू के बीच में घुसे कैप्टेन कोहली, फैंस को पसंद आया उनका मजाकिया अंदाज

ऐसे हुआ राजनीती में आना

यूं तो पढ़ाई व स्पोर्ट्स में तेज तर्रार दुष्यंत कैलिफोर्निया स्टेट यूनिवर्सिटी (California State University) से ग्रेजुएशन के बाद पोस्ट ग्रेजुएशन करना चाह रहे थे लेकिन ओम प्रकाश चौटाला और अजय चौटाला JBT घोटाले के चलते हिरासत में लिए गए तो उन्हें सत्ता में उतरना पड़ा.

साल 2017 में वह IG परमजीत सिंह अहलावत की बेटी मेघना अहलावत (Meghna Ahlawat) के साथ परिणय सूत्र में बंधे. उनकी माँ नैना चौटाला निशानेबाज रह चुकी हैं, विधानसभा 2019 चुनाव जीत चुकी हैं.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top