राम मंदिर निर्माण पर फैसला 24 घंटे में आ जाना चाहिए: योगी आदित्यनाथ

JBT Staff
JBT Staff February 12, 2019
Updated 2019/02/12 at 5:15 PM

Yogi Adityanath on Ram Mandir verdict: चुनावी गहमागहमी के बीच उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राम मंदिर विवाद को लेकर बड़ी बात कह दी है. योगी का कहना है कि राम मंदिर निर्माण पर फैसला 24 घंटे में आ जाना चाहिए.

चुनावी गर्मागर्मी के बीच राम मंदिर निर्माण मुद्दे पर एक बार फिर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपनी राय स्पष्ट कर दी है. सीएम योगी ने सुप्रीम कोर्ट से आग्रह किया है कि इस मामले का हल 24 घंटे के अंदर ही निकाला जाए.

योगी आदित्यनाथ ने ये बयान उत्तर प्रदेश विधानसभा में राज्यपाल के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव के चर्चा के दौरान दिया. योगी ने उच्च न्यायालय से जन आस्था का सम्मान करने का आग्रह भी किया है.

सीएम योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट करते हुए लिखा, ‘श्रीराम जन्मभूमि एक आस्था से जुड़ा विषय है और माननीय न्यायालय को भी जन आस्था का सम्मान करते हुए 24 घंटे के भीतर इस पर अपना फैसला सुना देना चाहिए.

जहां तक जमीन के बंटवारे का प्रश्न है तो इलाहाबाद हाई कोर्ट पहले ही कह चुकी है कि जहां रामलला विराजमान है, वही श्रीराम जन्मभूमि है.’

मुख्यमंत्री योगी ने कहा, ‘विवाद में केवल यह तय होना था कि यह राम जन्मभूमि है या नहीं है और जब यह तय हो गया है तो फिर इस विवाद के समाधान में 24 घंटे से 25वां घंटा नहीं लगना चाहिए.’

चर्चा के दौरान योगी आदित्यनाथ ने अवैध बूचड़खानों पर लगाये गए निलंबन पर भी बयान दिया. निराश्रित गोवंश के बारे में उन्होंने कहा, ‘पहले निराश्रित गोवंश चोरी कर अवैध बूचडखानों में पहुंचाये जाते थे और उन्हें वहां काटा जाता था .

हमारी सरकार ने अवैध बूचड़खानों को रोका तो गोवंश खेतों या सडकों पर है. हम गोवंश के संरक्षण एवं संवर्धन की व्यवस्था कर रहे है. तीन लाख निराश्रित गोवंश को अलग अलग जिलों में आश्रयस्थलों में रखा गया है.’

सीएम योगी ने अखिलेश यादव और समाजवादी पार्टी पर भी निशाना साधा. उन्होंने कहा, ‘पिछली सरकारों ने प्रदेश में जिस प्रकार का कॉरिडोर बनाने का प्रयास किया था, वह भ्रष्टाचार और आराजकता का गलियारा था .

प्रदेश का कोई ऐसा गुंडा, माफिया और समाजविरोधी तत्व नहीं था जो पिछली सरकारों का हमदर्द ना रहा हो.’

Share this Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.