Uttarakhand: फिर विवादों में लौटे तीरथ सिंह रावत, आरटीआई के माध्यम से हाथ लगी ये जानकारी

JBT Staff
JBT Staff March 26, 2021
Updated 2021/03/26 at 12:16 PM

Uttarakhand: त्रिवेंद्र सिंह रावत को रीप्लेस कर उत्तराखंड की कमान संभालने वाले पौड़ी लोकसभा सांसद तीरथ सिंह रावत पहले दिन से चर्चाओं में हैं लेकिन पार्टी के लिए उनकी चर्चा में रहना फायदेमंद नहीं बल्कि घाटे का सौदा साबित हो सकता है.

दो हफ्तों में तीरथ सिंह रावत (Tirath Singh Rawat) ने कई विवादित बयान देकर सबको चौंका दिया था, वहीं कोरोना को उन्होंने नजरअंदाज करने की सलाह दी क्योंकि कुंभ का मेला श्रद्धालुओं के लिए अहम है, हाल ही में कॉर्बेट सिटी रामनगर में जनसभा आयोजन के बाद वह खुद ही कोरोना पॉजिटिव निकले.

रामनगर में ही उन्होंने दो विवादित बयानों के साथ पार्टी की किरकिरी कर दी, ज्यादा राशन के लिए ज्यादा बच्चों की सलाह ने तो मानो उनकी फजीहत ही कर दी थी. इन दिनों सीएम साहब सेल्फ आइसोलेशन में, कोरोना पॉजिटिव जरुर आया है लेकिन वह बेहद नार्मल फील कर रहे हैं.

इन दिनों वह रेस्ट पर जरुर हैं लेकिन विवाद उनका पीछा नहीं छोड़ रहे हैं, सूचना का अधिकार अधिनियम (RTI) के तहत खबर आई है कि पौड़ी जिले के सांसद तीरथ सिंह, 2019-20 की सांसद निधि का सिर्फ 8 फीसदी ही खर्च पाए हैं या कहें 92 फीसदी हिस्सा डंप पड़ा है.

जागरण की खबर के मुताबिक उधमसिंह नगर जिले के काशीपुर निवासी सूचना अधिकार कार्यकर्ता नदीम उद्दीन ने ग्राम विकास आयुक्त कार्यलय से सांसद निधि खर्च संबंधी सूचना के लिए अर्जी डाली थी.

राज्य के सांसदों की 2021 के शुरुआत में 32.20 करोड़ सांसद निधि शेष है, इसमें 17.68 करोड़ की सांसद निधि लोकसभा सांसदों व 14.52 करोड़ की सांसद निधि राज्य सभा सांसदों की है. हरीद्वार सांसद व कैबिनेट मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक की पूरी राशि शेष है.

Share this Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.