Uttarakhand: सीएम तीरथ सिंह रावत ने त्रिवेंद्र सरकार के एक और फैसले को बदला, गैर सरकारी पदों पर बैठे नेताओं की हुई छुट्टी

JBT Staff
JBT Staff April 2, 2021
Updated 2021/04/02 at 5:15 PM

Uttarakhand: तीरथ सिंह रावत लगातार खुद को पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से बेहतर साबित करने की जद्दोजहद में जुटे हैं, कोरोनाकाल में लॉकडाउन तोड़ने को लेकर दर्ज हुए तमाम मुकदमे वापस लेने से लेकर कुंभ मेले में ढिलाई के बाद एक और फैसले में बदलाव किया है.

पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत (Trivendra Singh Rawat) ने अपने कार्यकाल में तमाम दायित्वधारियों की नियुक्ति की थी जिसको लेकर नए मुख्यमंत्री (Tirath Singh Rawat) ने नया फरमान जारी किया है, मुख्य सचिव ओमप्रकाश ने आदेश जारी किया है कि संवैधानिक पदों के अलावा एनी गैर सरकारी पद जैसे अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, व सलाहकार, मंत्री, राज्यमंत्री पदों पर बैठे दायित्वधारियों को हटाया जाए.

दोनों नेताओं के सुर अलग नजर आ रहे हैं, काम करने का तरीका अलग तो है ही साथ ही विवादों में रहने का शौक नए मुख्यमंत्री को ज्यादा है जो पार्टी के लिए घातक साबित हो सकता है. वहीं त्रिवेंद्र सिंह रावत अक्सर सीएम की कुर्सी से हटाए जाने से नाखुश नजर आ रहे हैं. हाल ही में उन्होंने एक कहावत के जरिए अपनी पीड़ा व्यक्त की थी जब वह कहते हैं अभिमन्यु को छल से मारा गया था.

मीडिया ने भी उनसे कई बार जानने की कोशिश की है कि आखिर उन्हें प्रदेश के मुखिया के पद से क्यों हटाया गया तो वह स्पष्ट कारण नहीं बता पाते हैं, वह बीजेपी के आलाकमान से शायद नाराज भी चल रहे हैं. पार्टी भी कहीं न कहीं उन्हें नजरअंदाज कर रही है, हाल ही में सल्ट विधानसभा उपचुनाव में महेश जीना के लिए स्टार प्रचारकों की लिस्ट जारी की गई तो उनका नाम गायब था, हालांकि बाद में इसे संसोधित कर दिया गया था.

Share this Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.