Politics

माल्या-जेटली मुलाकात मामले में अब राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर साधा निशाना

किंगफ़िशर एयरलाइन्स के मालिक और देश के सबसे बड़े भगोड़े विजय माल्या के साथ वित्त मंत्री अरुण जेटली के संबंधों को लेकर कांग्रेस और भाजपा एक-दूसरे पर आरोप लगाने से पीछे नहीं हट रही. कल ही राहुल गांधी ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिए माल्या के देश छोड़ने के पीछे अरुण जेटली का हाथ बताया था.

अब राहुल गांधी ने वित्त मंत्री पर तो निशाना साधा ही है, साथ ही अब प्रधानमंत्री पर भी आरोप लगाने शुरु कर दिए है. राहुल ने अब पीएम पर निशाना साधते हुए कहा है कि ‘इतने गंभीर और बड़े मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इजाजत के बाद ही सीबीआई ने लुकआउट नोटिस बदला होगा. जिसकी वजह से ही माल्या इतनी आसानी से देश छोड़ कर भाग पाने में कामयाब हो पाया.’

यह भी पढ़े: राहुल गांधी ने वित्त मंत्री जेटली पर लगाए माल्या से मिलीभगत के आरोप

इस पूरे मामले पर वित्त मंत्री के सफाई देने के बाद राहुल ने प्रधानमंंत्री मोदी पर भी आरोप लगाते हुए कहा कि ‘’सीबीआइ ने बड़ी खामोशी से डिटेन नोटिस को इन्फॉर्म नोटिस में बदल दिया, जिससे विजय माल्या देश से बाहर भाग सका.

राहुल ने कहा कि सीबीआई सीधे प्रधानमंत्री को रिपोर्ट करती है ऐसे में प्रधानमंत्री के कहने पर ही उन्होंने लुकआउट नोटिस बदला होगा. वहीं सीबीआई ने भी नोटिस को लेकर अपनी गलती कबूल कर ली है और इस बात को माना है कि माल्या के लुक आऊट में बदलाव करना बहुत बड़ा एरर ऑफ जजमेंट था.

यह भी पढ़े: कोयला घोटाले को लेकर कांग्रेस ने एक बार फिर मोदी सरकार पर साधा निशाना

भले ही सीबीआई ने इस गलती को कबूल कर लिया हो लेकिन राहुल गांधी कहीं ना कहीं अब खुद ही इस मुद्दे पर फंसते नजर आ रहे है. पहले इस मुद्दे पर सिर्फ अरुण जेटली को घेरने के बाद अब प्रधानमंत्री मोदी पर आरोप लगाने के साथ ही राहुल ने अपनी मंशा साफ कर दी है. राहुल इस मामले का राजनीतिक फायदा उठाना चाहते हैं.

वित्त मंत्री ने जिस तरह इस चीज को कबूला है कि उनकी और विजय माल्या की मुलाकात संसद में अचानक ही हुई थी तो उसके बाद राहुल गांधी और कांग्रेस द्वारा इस मुद्दे पर मचाए जा रहे हंगामे का कोई मतलब नहीं रहता. अगर राहुल गांधी के पास जेटली के खिलाफ कोई सबूत था, तो उन्होंने आज से पहले कभी इन सबूतों को सामने क्यों नहीं आने दिया.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top