Pragya Thakur Controversy: प्रज्ञा ठाकुर के विवादित बयानों की लगी झड़ी, क्षत्रियों को दी बच्चे पैदा करने की नसीहत

JBT Staff
JBT Staff December 13, 2020
Updated 2020/12/13 at 12:18 PM

Pragya Thakur Controversy: सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर और विवादों का भी गहरा नाता है, खैर सत्ता में उनकी एंट्री से ही विवाद शुरू हो गया था. इन दिनों वह फिर एक बार बिगड़े बोलों की वजह से सुर्खियों में हैं.

वह मानती हैं कि देश की रक्षा सुरक्षा के लिए क्षत्रियों को ज्यादा बच्चे पैदा करने चाहिए जबकि देश के विरोध में खड़े लोगों के लिए जनसंख्या नियंत्रण कानून लागू होना चाहिए, उन्होंने सवाल उठाया क्षत्रिय को क्षत्रिय कहो बुरा नहीं लगता, ब्राह्मण को ब्राह्मण कहो तो बुरा नहीं लगता, वैश्य को वैश्य कहो बुरा नहीं लगता. शूद्र को शुद्र कहने पर बुरा क्यों लग जाता है, कारण क्या है? क्योंकि समझ नहीं पाते.

मीडिया से हुई बातचीत में भारतीय जनता पार्टी की लीडर ने समाज की पुरानी वर्ण व्यवस्था को सही ठहराया, उनका मानना है अगर किसी जाति के व्यक्ति को उसकी जाति के नाम से पुकारा जाता है तो कुछ भी गलत नहीं है, सिर्फ शूद्र को शूद्र कहने पर बुरा लगता है. साथ ही उन्होंने आरक्षण को लेकर राय रखी कि आर्थिक आधार पर ही व्यक्ति को आरक्षण मिलना चाहिए, अर्थात देश के सिर्फ गरीब वर्ग को आरक्षण मिलना चाहिए.

किसान आंदोलन में शामिल सभी लोगों को प्रज्ञा ठाकुर (Sadhvi Pragya Thakur) ने वामपंथी व छिपे हुए कांग्रेसी करार दिया, वह कहती हैं ये सभी देश को तोड़ने का काम कर रहे हैं, ये किसान नहीं हैं. सोशल मीडिया पर साध्वी के बयानों पर बवाल देखने को मिल रहा है.

प्रज्ञा ने बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा व दिग्गज नेता कैलाश विजयवर्गीय पर हुए हमले पर प्रतिक्रिया देते हुए सीएम ममता बनर्जी को पागल घोषित कर दिया. प्रज्ञा कहती हैं ‘ममता पागाल हो चुकी हैं, उन्हें बंगाल में हिंदू शासन का भविष्य साफ नजर आ रहा है, भाजपा बंगाल को देश से अलग नहीं होने देगी’.

https://twitter.com/MuftiWahidSdy/status/1336976738195107843

Share this Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.