Politics

लोकसभा में कश्मीर पर बोले गृह मंत्री अमित शाह, देश विरोधी बात करने वालों की सुरक्षा हटा दी

Amit Shah in Lok Sabha: जम्मू कश्मीर के तमाम मुद्दों पर बात करते हुए गृह मंत्री अमित शाह ने जवाहर लाल नेहरु और कांग्रेस को फिर से निशाना बनाया. उन्होंने दावा किया कि पिछली सरकार ने देश विरोधियों को सुरक्षा प्रदान की थी जबकि अब वह हटा दी गयी हैं.

साथ ही अमित शाह ने जम्मू कश्मीर में 6 महीने और राष्ट्रपति शासन बढाने का प्रस्ताव रखा है. कश्मीर में फैले आतंकवाद, युवाओं के रोजगार, युवाओं का भटकना और आतंक का साथ देना जैसे कई मशलों पर उन्होंने बात की.

शाह कहते हैं उनकी सरकार की प्राथमिकता है कि जम्मू कश्मीर में लोकतंत्र को मजबूत किया जाए, शांति का माहौल बनाया जाए. आतंकवाद और दहशतगर्दी को जड़ से खत्म किया जाए, कुछ इस तरह कानून को यहाँ पर मजबूत बनाया जाएगा.

यह भी पढ़ें:  नहीं रहे पूर्व वित्त मंत्री व भाजपा के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली, दिल्ली एम्स में ली अंतिम सांस

लोकसभा में आज गृह मंत्री ने दो प्रस्तावों के साथ अपनी बात कही, पहला राष्ट्रपति शासन का बढ़ाना व दूसरा सविंधान के अनुच्छेद 5 व 9 के अनुसार दिए जा रहे आरक्षण में संसोधन कर कुछ और क्षेत्रों को शामिल करने का प्रावधान हो.

राष्ट्रपति शासन को लेकर उन्होंने कहा, अभी रमजान खत्म हुए हैं और अब अमरनाथ यात्रा का वक्त आने वाला है, 10 फीसदी आबादी वले गुर्जर व बकरवाल समुदाय इस सीजन में पहाड़ो की तरफ रुख कर लेते हैं और वे अक्टूबर तक ही वापस आते हैं, ऐसे में राष्ट्रपति शासन की अवधि बढ़ाई जाए.

अमित शाह ने दावा किया है कि भाजपा सरकार ने जम्मू कश्मीर से आतंकवाद खत्म करने को लेकर बहुत काम किया है और यह प्रयास जारी रहेगा. उन्होंने कहा पहले पंचायत चुनाओं में हिंसा होती थी जिस वजह से ये चुनाव बंद कराए गए थे लेकिन मोदी सरकार ने ये पुनः चालू कराए हैं और कोई हिंसा नहीं होती.

यह भी पढ़ें:  हरियाणा: गृहमंत्री अमित शाह ने विधानसभा चुनाव के लिए छेड़ी जंग, सरकार के 75 दिनों पर बोले

अमित शाह ने अपने ट्विटर अकाउंट पर भी आज का अपडेट पोस्ट किया है:

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



To Top