India News

Asaduddin Owaisi: 51 साल के हुए AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी, तेवरों के लिए रहते हैं हमेशा निशाने पर

Asaduddin Owaisi’s 51 Birthday Special: आज असदुद्दीन ओवैसी 51 साल के हो गए हैं, उन्होंने भले ही देश की राजनीति में कामयाबी नहीं पाई हो लेकिन हैदराबाद शहर को उनके नाम से जानने तक का सफर तय किया है. वह मुसलमानों के लिए लगातार आवाज उठाते आए हैं, उनके हीरो व मसीहा बनकर उभरे हैं.

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (All India Majlis-e-Ittehadul Muslimeen) चीफ असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi), प्रधानमंत्री मोदी के विरोध करने के लिए भी बीजेपी समर्थकों और पीएम मोदी के चाहने वालों के निशाने पर रहते हैं.

ओवैसी ने 1994 में अपने राजनीति करियर की शुरुवात की और आंध्रप्रदेश विधानसभा चुनाव जीतकर की थी तबसे वह एक प्रखर वक्ता औरमुसलमानों के हमदर्द बनकर उभरते रहे और पिता की मौत के बाद पार्टी की कमान उनके हाथ में आ गयी थी. यूं तो उन्हें क्रिकेट में दिलचस्पी थी, यहां तक कि साउथ जोन से तेज गेंदबाज के तौर पर उनका सिलेक्शन भी हुआ था.

यह भी पढ़ें:  Asaduddin Owaisi: त्योहारों में ईद का नाम नहीं लिया तो पीएम मोदी पर असदुद्दीन ओवैसी ने कसा तंज

पेशे से बैरिस्टर ओवैसी का जन्म 13 मई 1969 में पोलिटिकल बैकग्राउंड वाली फैमली में हुआ, उनके दादा अब्दुल वहीद ओवैसी (Abdul Wahed Owaisi) ने ही 1957 में इस पार्टी का गठन किया था. 2004 में पहली बार सांसद बनने के बाद आज तक असद 4 बार सांसद बन चुके हैं.

तीन तलाक, हलाला, अयोध्या, धारा 370 आदि जैसे बड़े मुद्दों पर वह मुस्लिम मेजोरिटी के पक्ष में बोलते आए, या कभी उन्होंने बीजेपी और आरएसएस के पक्ष में बोलना ही पसंद नहीं किया चाहे फिर मुद्दा कोई भी हो, शायद इसी वजह से पार्टी को वह हैदराबाद से आगे का रास्ता नहीं दिखा सके. भले ही तेवरों व कभी कभी गुस्से भरे लहजे में बोलने के लिए उन्हें कोसा जाता है लेकिन युवाओं के बीच वह बेहद महशहूर हैं.

यह भी पढ़ें:  Saroj Khan Passes Away: मशहूर कोरियोग्राफर सरोज खान का 71 की उम्र में निधन, बांद्रा स्थित हॉस्पिटल में ली अंतिम सांस

सोशल मीडिया पर चाहने वाले उनकी लम्बी उम्र की कामना कर रहे हैं:

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



To Top