Uttarakhand: तीरथ सिंह रावत 114 दिन रहे प्रदेश के मुख्यमंत्री, काम से ज्यादा इन बयानों की वजह से रहे चर्चा में

JBT Staff
JBT Staff July 3, 2021
Updated 2021/07/03 at 10:34 AM

Uttarakhand: पौड़ी लोकसभा सांसद तीरथ सिंह रावत ने जबसे मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी वह तबसे सुर्खियों में छाए रहे लेकिन उनकी यह पब्लिसिटी पार्टी के लिए घातक साबित हुई क्योंकि इनमें से कुछ बयान मुख्यमंत्री पद को किसी भी कीमत पर शोभा नहीं देते हैं.

मुख्यमंत्री पद की कमान पकड़ते ही तीरथ सिंह रावत (Tirath Singh Rawat) के विवादित बयानों का सिलसिला चलता रहा, हाथों हाथ उनकी वीडियोज सोशल मीडिया पर वायरल होने लगी और लोग उन्हें ट्रोल करने लगे, जींस वाले बयान पर तो राष्ट्रीय स्तर पर उनकी किरकिरी हुई थी. 4 महीने के कार्यकाल से पहले ही उन्होंने अपना इस्तीफा राज्यपाल को सौंपा.

यहां डालें मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के बयानों पर एक नजर:

मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद दूसरे ही दिन सीएम तीरथ, अजीबोगरीब बयान के लिए लाइमलाइट में आ गए थे, तेल के बढ़ते दामों के बारे में वह कहते हैं इससे आम जनता को परेशान होने की जरूरत नहीं है.

मुख्यमंत्री पद संभालने के चार दिन बाद पीएम मोदी की तारीफ में वह इतना खो जाते हैं कि द्वापरयुग व त्रेता युग के श्रीकृष्ण व श्रीराम से तुलना करने लग जाते हैं, उनका कहना था जिस तरह आज देश की जनता की सेवा मोदी जी कर रहे हैं, आने वाले समय में उन्हें भी पूजा जाएगा.

प्रदेश की राजधानी देहरादून में एक कार्यक्रम के दौरान बतौर चीफ गेस्ट पहुंचे सीएम साहब महिलाओं के पहनावों को लेकर अपना अनुभव साझा करने लगे, इसमें से एक किस्सा NGO चलाने वाली महिला का जींस का मुद्दा था जबकि दूसरा एक युवती जिसका पहनावा व शॉर्ट ड्रेस देखकर लड़के उसके पीछे पड़ गए थे.

रामनगर शहर के आमडंडा में जनता को संबोधित करते हुए वह सरकार के काम की तारीफ में बताना चाहते थे कि ताकतवर मुल्क अमेरिका से भी बेहतर तरीके से लड़ा जा रहा है, इस बीच वह देश को 200 सालों तक ब्रिटिश सरकार का नहीं बल्कि अमेरिका का गुलाम बता देते हैं.

इसी जनसभा में वह कहते हैं कि ज्यादा राशन पाने के लिए विशेष समुदाय ज्यादा बच्चे पैदा करते थे, तब तुमने 2 ही किए तो जलन कैसी. बता दें आज से वह चार दिन के लिए दिल्ली रवाना हो रहे हैं जहां उनकी मुलाकात पीएम मोदी, गृहमंत्री अमित शाह से लेकर पार्टी के बड़े नेताओं से होने वाली है, इस दौरान जरुर उनकी जुबान को काबू रखने की बात हो सकती है.

कुंभ मेले के दौरान सीएम तीरथ कहते हैं मरकज और कुंभ की तुलना नहीं हो सकती है क्योंकि मरकज बंद कमरे में आयोजित होता है इस वजह से वहां कोरोना फैलता है, जबकि कुंभ खुले वातावरण में.

Share this Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.