National

श्रीलंका बम धमाका: 359 लोगों की गयी जान, भारत ने किया था श्रीलंका को आगाह लेकिन नहीं बचा सके बेकसूरों की जान

Sri Lanka Bomb Blasts: 21 अप्रैल रविवार के दिन श्रीलंका के चर्चों और होटलों में लगभग दर्जन भर सिलसिलेवार बम धमाके हुए जिसमें श्रीलंका के डिफेन्स मिनिस्टर रुवान विजेवार्देने ने 359 लोगों की मौत का आकड़ा बताया है, इसमें से 39 अन्य देशों जबकि 320 श्रीलंका के नागरिक हैं.

रुवान विजेवार्देने ने बताया कि 39 विदेशियों में से 17 की पहचान हो चुकी है और उन्हें उनके परिवारों को सौंप दिया गया है. सूत्रों की मानें तो 39 में से 10 भारतीय हैं, ईस्टर के मौके पर भीड़भाड़ इलाके को निशाना बनाते हुए आतंकियों ने 12 आत्मघाती हमले से पूरी दुनिया को हिला कर रख दिया.

यह भी पढ़ें:  वायरल: परिवार में 9 वोटर फिर भी खुद के 5 वोट, जानिए फूटकर रोने वाले नीतू शटरांवाला की कहानी

कल मंगलवार 23 अप्रैल को इस धमाके की जिम्मेदारी ISIS के चीफ ने ली है, हालाँकि इस बात की अभी पुष्टि नहीं हो पाई है. दावा किया जा रहा है कि आतंकी द्वारा जारी किए गये विडियो में वह इसे न्यूजीलैंड के मस्जिदों का बदला बताता है.

आपको बता दें मार्च में किसी मुस्लिम विरोधी आतंकी संघठन ने न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च मस्जिद में अंधाधुंध फायरिंग कर दी थी जिसमें 49 लोगों को मौत हो गयी थी. इसमें आतंकी ने नमाज अदा कर रहे लोगों को शूट करते हुए विडियो भी बनाया था.

14 फरवरी पुलवामा अटैक, 15 मार्च न्यूजीलैंड और अब 21 अप्रैल श्रीलंका, 3 महीनों में ये हिला देने वाले बड़े आतंकी हमले इंसानियत को झकझोर देने वाले हैं, सभी देशों को मिलकर इन पर विचार करना चाहिए.

यह भी पढ़ें:  गुजरात: बढ़ती गर्मी से परेशान महिला ने कार पर पोत डाला गाय का गोबर, वायरल हुई तस्वीरें

बच सकती थी 359 जानें

खबरों की मानें तो दोनों देशों के खुफिया अधिकारीयों ने इस बात की पुष्टि की है कि भारत के खुफिया अधिकारीयों ने, श्रीलंका के अधिकारीयों को आगाह किया था लेकिन श्रीलंका वालों ने लापरवाही बरत दी, वे सुरक्षा के पुख्ता इन्तेजाम नहीं कर पाए.

शीत युद्ध के बाद श्रीलंका में यह सबसे बड़ा नरसंहार है. आतंकियों ने 3 चर्च और 4 होटलों को निशाना बनाते हुए 359 लोगों को शिकार बनाया. ये सीरियल बम धमाके इतने जानलेवा थे कि 500 से ज्यादा लोग इसमें घायल हो गये और इनमें से भी बहुतों की हालात गंभीर बनी हुई है.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


To Top