Pulwama Attack: भारत ने पाकिस्तान से ‘मोस्ट फेवर्ड नेशन’ का दर्जा छीना, जानिए क्या है MFN स्टेटस

JBT Staff
JBT Staff February 15, 2019
Updated 2019/02/18 at 11:16 AM

Pulwama Attack: 14 फरवरी को इंडियन आर्मी पर हुए आत्मघाती हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान से मोस्ट फेवर्ड नेशन (Most Favoured Nation) का दर्जा छीन लिया है.

गुरुवार 14 फरवरी 2019 का दिन भारतीयों के लिए बहुत बुरा रहा, सीआरपीएफ के 44 जवानों की शहादत को भुलाना नामुमकिन है, अतः सरकर जल्द से जल्द इस बड़े आतंकी हमले की बदले की तैयारी में जुट गयी है.

बात करते हैं मोस्ट फेवर्ड नेशन (Most Favoured Nation) स्टेटस की जो भारत ने पाकिस्तान से इस बड़े आत्मघाती हमले के बाद छीन लिया है.

मोस्ट फेवर्ड नेशन (Most Favoured Nation) स्टेटस या एमएफएन (MFN) स्टेटस का सीधा सा मतलब है सर्वाधिक तरजीही देश, विश्‍व व्‍यापार संगठन और इंटरनेशनल ट्रेड नियमों के आधार पर मोस्ट फेवर्ड नेशन (MFN) का दर्जा दिया जाता है.

कैबिनेट की बैठक के बाद वित्त मंत्री ने इस फैसले से अवगत कराया कि हमारी कंट्री ने पाकिस्तान से ‘मोस्ट फेवर्ड नेशन’ का दर्जा छीन लिया है. अर्थात भारत-पाक के बीच कड़वाहट बढ़ती चली जाएगी. अमेरिका, इजरायल से लेकर भूटान तक सभी ने भारत का साथ देने की बात कह दी है.

सीआरपीएफ (CRPF) के 2500 जवानों के काफिले पर पाक के आतंकी संघटन जैश-ए-मोहम्मद ने बहुत बड़ा हमला बोल कर पाकिस्तान ने फिर से बाहर देशों से खूब खरी खोटी सुनी है.

मोस्ट फेवर्ड नेशन (Most Favoured Nation)?

मोस्ट फेवर्ड नेशन (Most Favoured Nation) का मतलब है सर्वाधिक तरजीही देश, इस स्टेटस के अंतर्गत एक देश द्वारा दूसरे देश अथवा दर्जाप्राप्त देश को ये आश्वासन रहता है कि उसे कारोबार में किसी भी तरह का नुकसान नहीं पहुँचाया जायेगा.

मोस्ट फेवर्ड नेशन स्टेटस, व्यापार का हिस्सा है जिसके अंतर्गत आयात-निर्यात में छूट रहती है. इससे पाकिस्तान की आर्थिक तंगियों पर और बुरा असर पड़ेगा, आपको बता दें दोनों देशों के बीच बहुत व्यापार होता है.

व्यापार तो चलता रहेगा लेकिन इसका नुकसान पाक के साथ-साथ इंडिया को भी झेलना पड़ सकता है, बहरहाल भारत सरकार पूरे तरह पाक से बदले के लिए आतुर है.

पुलवामा अटैक (Pulwama Attack) के बाद की तस्वीरें वाकई झकझोर देने वाली हैं:

हमले के बाद का मंजर
इंडियन आर्मी
हमले के बाद का भयानक मंजर
भारतीय सेना
CRPF की बस को बनाया गया निशाना
CRPF के जवानों के काफिले पर 14 फरवरी को हुआ आतंकी हमला, जिसमें 44 जवान शहीद हो गये जबकि 18 जख्मी हो गये
Share this Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.