National

पुलवामा अटैक के जिम्मेदार जैश का कमांडर मुद्दसिर खान समेत तीन आतंकी मुठभेड़ में ढेर

Pulwama Attack Revenge: पुलवामा हमले में शामिल जैश-ए-मोहम्मद के डिस्ट्रिक्ट कमांडर मुद्दसिर अहमद खान को सुरक्षाबालों ने मुठभेड़ में ढेर कर दिया है. इस कार्रवाई में दो और आतंकी मारे गए हैं.

पुलवामा जिले के ट्राल, पिंगलिश गांव में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच रविवार शाम तगड़ी मुठभेड़ हुई. इस मुठभेड़ में सेना ने 3 आतंकियों को ढेर कर दिया है.

मारे गए आतंकियों में जैश-ए-मोहम्मद का डिस्ट्रिक्ट कमांडर मुद्दसिर खान शामिल है. बाकी दो आतंकियों की पहचान की जा रही है.

मुठभेड़ स्थल से आतंकियों के शव बरामद किए गए हैं. आतंकियों को मारने के बाद सेना सर्च ऑपरेशन चला रही है. इस मुठभेड़ के बाद  पिंगलिश गांव में तनाव बढ़ गया है.

तनावपूर्ण स्थिति को देखते हुए मुठभेड़ स्थल के आसपास इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई हैं.

खबर मिलने के बाद शुरू हुई मुठभेड़ 

सुरक्षाबलों को रविवार शाम खबर मिली कि पिंगलिश गांव में कुछ आतंकियों का एक समूह छुपा हुआ है. इसके बाद जम्मू-कश्मीर पुलिस की एसओजी और सेंट्रल पुलिस फाॅर्स के जवानों ने यहां सर्च ऑपरेशन शुरू किया.

यह भी पढ़ें:  मध्यप्रदेश: शादीशुदा औरत से अफेयर के मामले में पेड़ से बांधकर बहुत पीटा, 5 गिरफ्तार

सर्च ऑपरेशन शुरू होते ही आतंकियों ने गोलिबारी शुरू कर दी. जिसके बाद सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ शुरू हो गई. लगभग दो घंटे तक चली इस मुठभेड़ में तीन आतंकी ढेर हो गए.

कौन है मुद्दसिर अहमद खान?

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, मुद्दसिर अहमद खान ने ही पुलवामा हमले की साजिश रची थी. अब तक जुटाए गए सबूतों के आधार पर पता चला है कि 23 साल के मुद्दसिर ने ही सीआरपीएफ के काफिले पर हमले के लिए गाड़ी और विस्फोटक का इंतजाम किया था.

रिपोर्ट्स के मुताबित मीर मोहल्ला का निवासी मुद्दसिर खान 2017 में जैश ए मोहम्मद में बतौर ‘ओवरग्राउंड वर्कर’ शामिल हुआ था. इसके बाद आतंकी नूर मोहम्मद तांत्रे ने उसे पूरी तरह आतंकी संगठन का हिस्सा बना दिया.

दिसंबर 2017 में तांत्रे के मारे जाने के बाद खान 14 जनवरी 2018 को अपने घर से लापता हो गया और आतंकियों के साथ रहने लगा. पुलवामा हमले में आत्मघाती हमलावर आदिल अहमद डार से खान लगातार संपर्क में बना हुआ था.

यह भी पढ़ें:  पीएम मोदी का बड़ा बयान, महात्मा गांधी के अपमान के लिए प्रज्ञा ठाकुर को कभी माफ नहीं करेंगे

इन दो हमलों में भी था मुद्दसिर खान का हाथ

खान के परिवार की बात करें तो उनके पिता मजदूर हैं. उसके दो और भाई है और वह सबसे बड़ा था. ग्रेजुएशन करने के बाद खान ने आईटीआई से इलेक्ट्रिशन का एक वर्षीय डिप्लोमा पाठ्यक्रम किया था.

खबर है कि खान फरवरी 2018 में सुंजवान में सेना के शिविर पर हुए आतंकी हमले में भी शामिल था. इस हमले में छह जवान शहीद हो गए थे और एक नागरिक की जान गई थी.

इसके अलावा लेथपोरा में सीआरपीएफ के शिविर पर जनवरी 2018 में हुए हमले में खान का हाथ बताया जा रहा है. इस हमले में सीआरपीएफ के पांच जवान शहीद हो गए थे.

लेटेस्ट रिपोर्ट के मुताबिक कश्मीरी सजाद भट्ट (Sajjad Bhat) नाम के आतंकी की कार इस्तेमाल हुई थी, जैश का पाकिस्तानी सदस्य खालिद सहित मास्टरमाइंड मुद्दसिर अहमद खान मारे गये.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


To Top