India News

Owaisi on Ayodhya: कानूनी लड़ाई लड़ेंगे, खैरात की 5 एकड़ जमीन भी नहीं चाहिए

Owaisi on Ayodhya Verdict: ऐतिहासिक फैसले का दिन था, कुछ बड़े राजनेताओं ने देशहित में सोचने के ऊपर जोर डाला तो कुछ ने फैसले का विरोध किया. AIMIM प्रमुख का बयान भी आ चुका है, वह फैसले से कितने खफा हैं, उनके बयान से साफ जाहिर हो गया है.

देश के मुस्लिम की वकालत करते हुए वह कहते हैं, इस देश का मुस्लिम इतना गिरा हुआ नहीं कि वह 5 एकड़ की जमीन रखे, उन्होंने अपने इरादे बताते हुए कहा कि उनका निजी फैसला है, 5 एकड़ मिली खैरात वापस लौटा देनी चाहिए और कानूनी लड़ाई जारी रखनी चाहिए.

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (All India Majlis-e-Ittehadul Muslimeen) चीफ असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) इस फैसले बिल्कुल नाखुश नजर आ रहे हैं, मस्जिद निर्माण के लिये सुन्नी वक्फ बोर्ड को मिले 5 एकड़ जमीन के लिए भी उन्होंने साफ इंकार कर दिया है.

यह भी पढ़ें:  Filhall Teaser: अक्षय कुमार का पहला म्यूजिक विडियो 9 नवंबर को होगा रिलीज, टीजर देखकर बेताब हुए फैंस

आज दिनांक 9 नवंबर 2019 (शनिवार) को बड़ा फैसला आया, सुप्रीम कोर्ट ने राम मन्दिर के लिए लड़ रहे पक्ष के हित में फैसले सुनाने के बाद मस्जिद पक्ष को कहीं और 5 एकड़ जमीन का फैसला सुनाया. प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई (Ranjan Gogoi) की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ द्वारा सुनाया गए फैसले पर नाराजगी जाहिर करते हुए ओवैसी वोले जिन्होंने बाबरी मस्जिद गिराई उन्हीं को मंदिर बनाने की इजाजत दी गयी है.

ओवैसी (Asaduddin Owaisi) के अलावा ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ के कमाल फारुकी, वकील जफरयाब जिलानी सहित कई बड़े लोगों ने क़ानूनी लड़ाई जारी रखने का फैसला लिया है. रामलला विराजमान और सुन्नी वक्फ बोर्ड के बीच चले इस कोर्ट ड्रामे में 5-0 से फैसला ऐतिहासिक रहा.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



To Top