Bollywood

Nidhi Parmar: फिल्ममेकर निधि कर चुकी हैं 42 लिटर ब्रेस्ट मिल्क डोनेट, इस तरह कई बच्चों को दिया जीवन

Nidhi Parmar’s novel work: कोरोनाकाल ने इंसानियत की बड़ी परीक्षा ली, इस बीच रील लाइफ के सितारों ने भी अपनी रियल लाइफ की नेकी का पार्ट दिखाया. सभी बड़े स्टार्स ने महामारी के इस दौर में देश की जनता का साथ दिया, किसी ने PPE किट्स, मास्क, सैनेटाईजर तो किसी ने आर्थिक सहायता दी.

इस बीच सोनू सूद (Sonu Sood) का नाम लाइमलाइट में छाया रहा क्योंकि उन्होंने न सिर्फ आर्थिक तौर पर बल्कि जमीनी स्थर पर लोगों की मदद की, प्रवासी मजदूरों के लिए तो वह भगवान का दर्जा हांसिल कर चुके हैं. आपको बता दें सोनू सूद की तरह अपने मुल्क में ऐसे नेक दिल इंसानों की कमी नहीं है, हम विवादों को लेकर उत्साहित रहते हैं या फिर जो किसी वजह से ट्रेंड हो जाता है उसी के बारे में बात करते हैं लेकिन फिल्ममेकर निधि का काम आप नजरअंदाज नहीं कर सकते.

यह भी पढ़ें:  Pakistan: पाकिस्तानी सास ने दामाद को गिफ्ट की AK-47, भारतीय यूजर्स ने उड़ाया जमकर मजाक

तापसी पन्नू और भूमि पेडनेकर की फिल्म सांड की आंख (Saand Ki Aankh) निर्माता निधि परमार हीरनंदानी (Nidhi Parmar Hiranandani) ने इस लॉकडाउन में जो नेक काम किया है, वह है असली ‘दूध का कर्ज’ लेवल का दरियादिली वाला काम.

इसी साल मार्च में मां बनी फिल्म प्रोड्यूसर निधि परमार हीरनंदानी ने देखा कि उनका बेटा ब्रेस्ट का पूरा दूध नहीं पी पा रहा है और उनके पास ज्यादा मिल्क स्टोर्ड भी है क्यों न यह दूध किसी जरूरतमंद के काम आए. आईडिया आने के बाद उन्होंने जानने वालों से इस बात की चर्चा की, पता चला वाकई मिल्क डोनेट किया जा सकता ह क्योंकि ब्रेस्ट मिल्क को 3-4 महीने तक फ्रीजर में रखा जा सकता है.

यह भी पढ़ें:  PM Modi DeathThreats: पीएम मोदी को मिल रही हैं जान से मारने की धमकियां, दिल्ली पुलिस ने दिखाई तत्परता

निधि बताती हैं कि उन्होंने इंटरनेट पर भी इसको लेकर बहुत छानबीन की, गायनोकोलॉजिस्ट से बात हुई तो पता चला शहर में ब्रैस्ट मिल्क बैंक भी है. लॉकडाउन की वजह से समस्या जरुर हुई लेकिन मई से अब तक वह 42 लिटर ब्रेस्ट मिल्क सूर्या अस्पताल के नियोनेटल इंटेसिव केयर यूनिट को दे चुकी हैं.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



To Top