Muhammad Umar Gautam: नैनीताल में ऐसा क्या हुआ कि श्याम गौतम बन गया मुहम्मद उमर गौतम

JBT Staff
JBT Staff June 22, 2021
Updated 2021/06/22 at 9:57 AM

Muhammad Umar Gautam: उत्तर प्रदेश में धर्म परिवर्तन का चौंकाने वाला रैकेट के बारे में खुलासा हुआ है, यूपी एटीएस के हाथ ऐसे सुराग लगे कि दो दिन में ही सरगनाओं का पर्दाफाश हो गया. कड़ी जांच के बाद पता चला आरोपी मुहम्मद उमर गौतम किसी दिन श्याम प्रताप सिंह गौतम था.

मूलतः मुहम्मद उमर गौतम (Muhammad Umar Gautam) उत्तर प्रदेश के फतेहपुर का है, जिसका नाम श्याम प्रताप सिंह गौतम हुआ करता था. उनसे 12वीं तक की पढ़ाई इलाहाबाद (प्रयागराज) से की है, बीएससी एग्रीकल्चर के लिए वह उत्तराखंड के नैनीताल चला गया.

कैसे श्याम प्रताप सिंह गौतम बना मुहम्मद उमर गौतम

इलाहाबाद से स्कूलिंग के बाद जब ग्रेजुएशन के लिए श्याम (Shyam Pratap Singh Gautam) नैनीताल हॉस्टल में शिफ्ट हुआ तो उस दौरान उसके पैर में चोट लग गई, तभी बगल वाले कमरे में रह रहे अन्य छात्र ने उसकी मदद की, वो मुस्लिम छात्र ही श्याम को डॉक्टर के पास ले जाया करता था, साथ ही मंदिर भी.

राजपूत परिवार में जन्मा श्याम कहता है कि उसे बचपन से ही जाति के नाम पर होने वाले भेदभाव अजीब लगता था, उसने हॉस्टल इंसिडेंट के दौरान इस्लाम की किताबें हिंदी में पढ़ी और प्रभावित हो गया. साल 1984 में आखिरकार श्याम ने धर्म परिवर्तित कर दिया, अब वह बना गया था मुहम्मद उमर गौतम.

बड़े स्तर पर हो रहा धर्मांतरण का काम

देश के कई राज्यों में इस गिरोह द्वारा यह काम किया जा रहा था, इसमें मूक-बधिर बच्चे, महिलाएं, गरीब, अपाहिजों को शिकार बनाया जाता था. न सिर्फ लालच बल्कि डरा धमका कर भी धर्म परिवर्तित कराया जता था. इसमें 100 से ज्यादा लोगों की शामिल होने की आशंका है, पिछले 2 साल में ये 1000 से ज्यादा लोगों को मुस्लिम बना चुके हैं.

उत्तर प्रदेश एंटी टेररिज्म स्क्वाड द्वारा डासना देवी मंदिर से इस रैकेट के बारे में सुराग हाथ लगा, जिसके बाद इसकी कई परतें खुलती जा रही हैं.

Share this Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.