Bollywood

अक्षय ने पीएम मोदी से इंटरव्यू में पूछे ये 5 मजेदार सवाल, पढ़िए मोदी जी के दिलचस्प जवाब

Modi with Akshay Kumar: आज सुबह से पीएम मोदी चर्चा में हैं. ये चर्चा किसी मुद्दे या पार्टी के लेकर नहीं बल्कि उनके एक इंटरव्यू को लेकर हो रही है. ये इंटरव्यू बॉलीवुड के सुपरस्टार अक्षय कुमार ने लिया है.

सुबह से ही ये इंटरव्यू सोशल मीडिया पर ट्रेंड कर रहा है क्योंकि पहली बार मोदी जी ने अपने जीवन से जुड़ी कुछ ख़ास बातों और अनसुनी बातों को दुनिया के साथ शेयर किया है.

आइये अक नजर डालते हैं पीएम मोदी और अक्षय कुमार के बीच हुई इस बातचीत के पांच सबसे मजेदार सवालों और उनके जवाबों पर

अक्षय: आपका मन मां के साथ रहने का नहीं करता?

पीएम मोदी: मैंने बहुत छोटी उम्र में अपना घर छोड़ दिया था. मैं घर छोड़कर चला गया तो मेरी ट्रेनिंग भी वैसी ही हुई. मैंने मां को कुछ दिन के लिए बुलाया, लेकिन मैं पूरे समय अपने शिड्यूल में लगा रहता था. इससे मां को दुख होता था कि ये क्या कर रहा हूं.

यह भी पढ़ें:  Laxmmi Bomb: अक्षय की फिल्म को लगा झटका, पोस्टर रिलीज होते ही डायरेक्टर ने छोड़ी फिल्म, ये है वजह

अक्षय: क्या हमारे प्रधानमंत्री आम खाते है?

पीएम मोदी: आम खाना मुझे बहुत पसंद है. गुजरात में आम रस की परंपरा बहुत आम है. जब मैं छोटा था, तो खेतों में चले जाते थे. खेतों का किसान बड़ा उदार है, वह किसी को खाने से नहीं रोकता है.

मुझे पेड़ का पका हुआ आम बहुत पसंद था. उसे वहीं से खाता था. लेकिन अब मुझे सोचना करना पड़ता है कि खाऊं या नहीं.

अक्षय: आप सन्यासी बनना चाहते थे या सेना में जाना चाहते थे?

पीएम मोदी: जब मैं छोटा था, मैं सैनिकों को देखता था और उनकी देशभक्ति मुझे प्रेरित करती थी. मैं राम कृष्ण मिशन से जुड़ा था और वहां के लोगों से प्रेरित था. 1962 की जंग हुई.

यह भी पढ़ें:  बेगूसराय लोकसभा सीट 2019 रिजल्ट: गिरिराज सिंह आगे, कन्हैया कुमार पर भारी पड़ी मोदी लहर

स्टेशन पर देखा जो लोग फौज में जा रहे थे, उनका काफी सम्मान होता था. मैं भी वहां चला जाता था. तब मन में आया कि यह देश के लिए कुछ करने का माध्यम है.

अक्षय: जब आपको गुस्सा आता है तब आप खुद पर किस तरह से काबू करते है?

पीएम मोदी: मैं इतने लम्बे समय तक मुख्यमंत्री रहा लेकिन मुझे कभी गुस्सा व्यक्त करने का अवसर नहीं आया. मैं सख्त हूं, अनुशासित हूं लेकिन कभी किसी को नीचा दिखाने का काम नहीं करता. सख्त होने और गुस्सैल होने में अंतर है.

कोई मेरे लिए कुछ लाया तो मैं तो खुद हेल्पिंग हैंड के रूप में खड़ा हो जाता हूं. मैं लोगों से सीखता भी हूं और सिखाता भी हूं. मेरे अंदर गुस्सा होता होगा, लेकिन मैं व्यक्त करने से खुद को रोक लेता हूं.

यह भी पढ़ें:  उत्तराखंड: पांचों लोकसभा सीटों पर BJP की बड़ी विजय, पूर्व CM हरीश रावत की शर्मनाक हार

अक्षय: क्या अपने कभी सोचा था कि आप देश के प्रधानमंत्री बनेंगे?

पीएम मोदी: मैंने कभी नहीं सोचा था कि प्रधानमंत्री बनूंगा. एक आम व्यक्ति ऐसा नहीं सोचता. कभी मेरे मन में प्रधानमंत्री बनने का विचार नहीं आया और आम लोगों के मन में ये विचार आता भी नहीं है.

जो मेरा फैमिली बैकग्राउंड है, उसमें मुझे कोई अच्छी सी नौकरी भी मिल जाती तो मां पड़ोसियों को गुड़ खिला देती. मुझे आश्चर्य हो रहा है कि देश मुझे इतना प्यार दे रहा है.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


To Top