India News

कठुआ रेप केस: 3 को उम्रकैद, 3 को सबूत मिटाने के जुर्म में 5 साल की जेल व एक बरी

Kathua Rape Case: जनवरी 2018 के रेप केस ने पूरे देश को हिला कर रख दिया था, जम्मू एंड कश्मीर के कठुआ से 17 जनवरी 2018 को आसिफा नाम की लड़की का शव मिला, पोस्टमार्टम रिपोर्ट में जो वजह सामने आई उसने इंसानियत को शर्मशार कर दिया था.

10 जनवरी 2018 को एक 8 साल की मासूम का अपहरण के बाद 4 दिन तक सामूहिक बलात्कार कर कुछ दरिंदों ने उसे बेरहमी से मार डाला, अपहरण के हफ्ते बाद उसका शव बरामद हुआ तो देश गुस्से से उबल पड़ा, आज दोषियों को दोषी तो ठहरा दिया गया है लेकिन सजा से लोग नाखुश नजर आ रहे हैं.

यह भी पढ़ें:  Muzaffarpur: मां के शव पर से चादर हटाता 1 साल का मासूम, लॉकडाउन की सबसे दर्दनाक विडियो

3 को उम्रकैद मिली, 3 पुलिसवालों को सबूत मिटाने के जुर्म में 5 साल की जेल हो रही है जबकि लोगों का मानना है कि सभी आरोपियों को फांसी होनी चाहिए.

डेढ़ साल से इस केस पर तलवार लटकी थी लेकिन 10 जून को पंजाब के पठानकोट में एक विशेष अदालत ने अपना फैसला सुना दिया है. 7 आरोपीयों में से 6 को कोर्ट ने दोषी माना है.

विशाल नाम के आरोपी को कोर्ट ने बरी कर दिया है, वह मुख्य आरोपी का बेटा है. आपको बता दें देश की जनता इस तरह के केसेज से बहुत तंग आ चुकी है और आरोपियों के लिए ठोस सजा की मांग कर रही है, 30 मई को हुए ट्विंकल मर्डर केस ने भी देश की जनता को आक्रोशित किया है.

यह भी पढ़ें:  Preksha Mehta Suicide: डिप्रेशन में थी एक्ट्रेस प्रेक्षा मेहता, आखिरी मेसेज ने बयां किया दर्द

कठुआ जिले के रसाना गाँव का प्रधान सांझी राम इस केस का मेन आरोपी है जबकि पुलिस वाला दीपक खजुरिया व परवेश कुमार सहआरोपी हैं. इन तिन को उम्रकैद व पुलिस वाले आनंद दत्ता, सुरेन्द्र वर्मा और तिलक राज को कोर्ट ने 5-5 साल की कैद और जुर्माना ठोका है.

फैसले के बाद पीड़ित की माँ का कहना है वह खुश हैं लेकिन जब तक सांझी राम, परवेश कुमार और दीपक को फांसी नहीं हो जाती तब तक चैन नहीं मिलेगा.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



To Top