Jasleen-Sarvjeet Case: 4 साल बाद झूठे केस में बरी हुए सर्वजीत, जसलीन कौर को गिरफ्तार करने की मांग

JBT Staff
JBT Staff October 26, 2019
Updated 2019/10/26 at 11:20 AM

Jasleen Kaur & Sarvjeet Singh Case: एक भद्दे आरोप का टैग लेकर जो इंसान पिछले 4 सालों से हर दिन घुट घुट के जी रहा था आखिरकार उसे न्यायपालिका से इंसाफ मिला. लड़कियों पर हो रहे अत्याचार ने सभी को फैसले लेने में इतना फास्ट फॉरवर्ड कर दिया कि वह किसी केस के तह तक जाना ही नहीं चाहते.

ऐसा ही कुछ हुआ निर्दोष सर्वजीत सिंह बेदी (Sarvjeet Singh Bedi) के साथ, एक ट्रैफिक सिग्नल पर उनकी बहस DU की पूर्व छात्रा जसलीन कौर (Jasleen Kaur) से हुई तो जसलीन ने इस घटना का पूरा रुख ही बदल डाला. लड़कियों के लिए बने लॉज (Laws) का ऐसा इस्तेमाल किया कि सर्वजीत को देश की जनता दिल्ली का दरिंदा कहकर पुकारने लगी.

यहां तक कि देश के बड़े राजनेताओं और सेलिब्रिटीज ने जसलीन को उनकी फेक बहादुरी के लिए सम्मानित भी किया. दिल्ली के सीएम अरविन्द केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने न सिर्फ एक तरफा महिला पक्ष लेते हुए ट्विटर पर जसलीन की तारीफ की बल्कि अपनी पार्टी आप (AAP) के सदस्य के तौर पर पहचान दे डाली.

घटना के बाद दिल्ली CM का ट्विट, जसलीन ले फोन से सर्वजीत की पिक क्लिक की गयी थी और इसको ही उनका सबूत मान लिया गया था.

घटना के ताजे दिनों में ही सर्वजीत ने खुद को निर्दोष बताया, कई हद तक इस बात को साबित भी किया लेकिन जसलीन कौर इस कहानी में हार्डकोर विलेन की तरह अटकी रही. बदले में सर्वजीत को नौकरी से निकाला गया, लोग उन्हें शक भरी निगाहों से देखने लगे, लेकिन उनकी हिम्मत को आज सभी सलाम कर रहे हैं, वह कभी पीछे नहीं हटे.

सोशल मीडिया पर उन्होंने एक थैंक्स नोट भी पोस्ट किया है. वहीं जसलीन कौर जैसे महिलाओं को सोशल मीडिया पर नसीहत दी जा रही है कि कानून का दुरूपयोग न करें. 4 साल की मानसिक, व्यवहारिक, और हर तरह की यातनाओं के लिए जसलीन को गिरफ्तार करने की मांग भी की जा रही है.

सोशल मीडिया पर इस तरह उठ रही है आवाज:

https://twitter.com/2_perfectionist/status/1187829839115350016

Share this Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.