India News

Farmer Bill: किसान नेता का दावा 15 में से 12 मांगों पर सरकार सहमत, मतलब नया कृषि कानून सही नहीं

Farmer Bill: नए कृषि कानून के खिलाफ प्रोटेस्ट उग्र होता जा रहा है, सरकार संसोधन के लिए तैयार है लेकिन किसान इस बात पर अड़े हैं कि बिल पूरी तरह वापस लिया जाए, वहीं मोदी सरकार समर्थक लगातार विपक्ष पर किसानों को गुमराह करने का आरोप लगा रहे हैं.

किसान नेताओं ने रेल पटरियां अवरुद्ध करने की चेतावनी दे डाली है, किसान नेता राकेश टिकैत ने दावा किया है कि केंद्र सरकार उनकी 15 मांगों में से 12 पर सहमत जता चुकी है, इससे साफ है यह कानून व्यापारियों के हित में है न कि किसानों के.

एक बात तो तय है जब तक सरकार व किसानों के बीच बातचीत नहीं बनती है तब तक देश में इस आंदोलन पर विराम लगाना मुश्किल हो जाएगा. दिल्ली के लोग लगातार जाम को लेकर सवाल उठा रहे हैं, पिछले 2 हफ्तों से दिल्ली के लोग परेशान हैं, ऐसे में नतीजे शाहीन बाग़ जैसे आने में देर नहीं लग सकती है.

वहीं सिंघू बॉर्डर पर मीडिया से हुई बातचीत में किसान संघों ने चेतावनी दी है कि प्रोटेस्ट को और तेज किया जाएगा, दिल्ली की तरफ जाने वाले सभी राजमार्ग पर पूरी तरह चक्का जाम किया जाएगा, हरियाणा पंजाब ही नहीं देश की लगभग सभी रेल पटरियों पर प्रदर्शन का असर देखने को मिलेगा.

किसान नेता बूटा सिंह ने मीडिया से बात करते हुए साफ कहा है ‘किसानों की मांगें पूरी हुई तो रेल पटरियां अवरुद्ध की जाएंगी, इसकी तारीख भी बहुत जल्द घोषित की जाएगी’. किसान नेता बलबीर सिंह राजेवाल ने मीडिया से कहा कि केंद्र ने यह बात स्वीकार की है कि नए कृषि कानून व्यापारियों के लिए बनाए गए हैं.

कोरोना व ठंड का प्रकोप है कि बढ़ता जा रहा है, ऐसे में सरकार के लिए भी चुनौती है. आए दिन प्रोटेस्ट कर रहे लोगों की मरने की खबरें आ रही हैं.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top