India News

Davinder Singh Gallantry Award Truth: वीरता पदक से पुरस्कृत नहीं आतंकियों का हमदर्द दविंदर सिंह

Davinder Singh Gallantry Award Truth: कश्मीर के निलंबित पुलिस अधिकारी के बारे में जैसे ही खबरें लोगों के नजर में आई, कुछ अफवाहें भी साथ में जुड़ गयी, जैसे कि भारत सरकार पर निशाना साधा जा रहा था कि एक ऐसे गद्दार पुलिस वाले को हमारी सरकारों ने वीरता पुरुस्कार से नवाजा है.

जम्मू कश्मीर के अधिकारिक पुलिस ट्विटर अकाउंट से इस खबर का खंडन किया गया है, उन्होंने लिखा है ‘स्पष्ट हो कि दविंदर सिंह को गृह मंत्रालय से कोई बहादुरी पदक से नहीं नवाजा गया है जैसा कि कुछ मीडिया संस्थानों व लोगों द्वारा खबरें फैलाई जा रही हैं’.

साथ ही पुलिस ने स्पष्ट किया है कि दविंदर सिंह (Davinder Singh) नाम के दूसरे अधिकारी को पुरस्कृत जरुर किया गया है, शायद इस वजह से कोई कंफ्यूजन हो गया हो. आपको बता दें बीते शनिवार या 11 जनवरी को कुलगाम (Kulgam) जिले के मीर बाजार से पुलिस उपाधीक्षक को गिरफ्तार किया गया है.

दविंदर, नवीद बाबा (Nadib Baba) और अल्ताफ (Altaf) नाम के दो आतंकी हिज्बुल मुजाहिद्दीन आतंकी संघठन के लोगों के साथ कार में सवार थे, उन्हें रोक कर पूछताछ की गयी तो वह गुस्से से लाल हो गए, जिसके बाद DIG गोयल ने उन्हें फटकार लगाई और आगे की कार्रवाई हुई, उनसे पूछताछ जारी है.

ताज़ी रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान में बैठे कई आतंकियों से उनकी बातचीत जारी थी, यहां तक कि उनके पास से एक विदेशी सिम भी बारामद हुआ है. भारतीय लोगों का हौंसला बुरी तरह टूटा है, सोशल मीडिया के माध्यम से इसपर सख्ती से छानबीन की अपील की है, लोगों ने आशंका जताई है कि पिछले साल 14 फरवरी को हुई पुलवामा अटैक में भी दविंदर का हाथ हो सकता है.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top