National

मसूद का बचाव करने पर अमेरिका की चीन को चेतावनी- अगर ऐसा ही चलता रहा तो सख्त रुख अपनाएंगे

China Blocks Move On Masood Azhar: चीन ने लगातार चौथी बार मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित होने से बचा लिया है. संयुक्त राष्ट्र में चीन ने अपने वीटो पावर का इस्तेमाल कर चीन ने भारत की कोशिशों को तगड़ा झटका दिया है.

जैसा कि उम्मीद थी भारत के पड़ोसी चीन ने एक बार फिर आतंकी मौलाना मसूद अजहर का बचाव किया है. चीन एक बार फिर पुलवामा हमले के मास्टरमाइंड मौलाना मसूद अजहर की ढाल बन गया है.

चीन ने लगातार चौथी बार मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित होने से बचा लिया है. संयुक्त राष्ट्र में चीन ने अपने वीटो पावर का इस्तेमाल कर चीन ने भारत की मसूद को ग्लोबल आतंकी घोषित करने की कोशिशों को तगड़ा झटका दिया है.

यह भी पढ़ें:  ICC ODI Rankings: केदार जाधव को जबरदस्त फायदा, भारतीय टीम दूसरे स्थान पर बरकरार

चीन के इस रवैये से परेशान होकर अब अमेरिका भी भारत के समर्थन में आ गया है. अमेरिका ने संयुक्त राष्ट की मीटिंग में कड़ा बयान देते हुए कहा कि अगर चीन अपना रवैया नहीं बदलेगा तो जिम्मेदार देशों को कोई और कदम उठाना पड़ेगा.

अमेरिका ने अपने बयान में कहा गया है कि पाकिस्तान, चीन की मदद से कई बार जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित होने से बचाता रहा है. ये चौथी बार है जब चीन ने इस तरह से मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित होने से बचाया है.

अमेरिका ने चेतावनी दी कि अगर इसी तरह चीन मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित होने से बचाता रहा तो सुरक्षा परिषद के अन्य सदस्यों (देशों) को सख्त रुख अपनाना पड़ेगा, जो कोई नहीं चाहता.

यह भी पढ़ें:  Video: पुलवामा अटैक मास्टरमाइंड मसूद अजहर को 'जी' बोलकर राहुल गाँधी बुरे फंसे

गौरतलब है कि पुलवामा आतंकी हमले के मास्टरमाइंड मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित करने के लिए भारत पूरी कोशिश कर रहा है. भारत को अन्य देशों का पूरा साथ भी मिल रहा है.

संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद के ही सदस्य देशों अमेरिका, फ्रांस, ब्रिटेन ने मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित करने का प्रस्ताव रखा था. लेकिन एक बार फिर चीन ने अपनी वीटो पावर का इस्तेमाल कर मसूद को बचा लिया है. ये चौथा मौका है जब चीन ने ऐसा किया है.

इस हरकत के बाद भारत में लोग गुस्से में हैं और चीन का विरोध कर रहे हैं. सोशल मीडिया पर #BoycottChina ट्रेंड हो रहा है और साथ ही लोग चीन से जुड़ी चीज़ों का विरोध कर रहे हैं.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


To Top