India News

Bihar: मर्डर केस में उम्र कैद काट रहे युवक को मिली संतान पैदा करने इजाजत, 15 दिन के पैरोल पर है कैदी

Bihar: बिहार की जेल में जवानी काट रहे शख्स पर अचानक हाईकोर्ट का चौंकाने वाला फैसला आया है, यह फैसला इन दिनों चर्चा का विषय बना हुआ है. साल 2012 से यह शख्स हवालात में बंद है लेकिन 8 साल बाद कुछ ऐसा हुआ कि उसे पैरोल पर जाने की इजाजत मिल चुकी है.

सोशल मीडिया पर हाईकोर्ट के फैसले की खूब आलोचना भी की जा रही है, वहीं कुछ लोग फैसले को सही भी ठहरा रहे हैं क्योंकि वंश को आगे बढ़ाने के लिए कोर्ट में याचिका दायर करने वाली कैदी की पत्नी थी, लोगों का कहना है उसकी क्या गलती है, उसके लिहाज से सोचा जाए तो फैसला सही है.

यह भी पढ़ें:  Raisen: नगरपालिका CMO ने मास्क न पहनने पर ठेला पलटा, ठेलेवाले ने दौड़ा-दौड़ा कर पीटा

मामला बिहार के बिहारशरीफ जेल का हैं जहां विक्की नाम का हत्यारोपी 8 साल से बंद है, विक्की आनंद (Vicky Anand) नालंदा जिले के उत्तरनावां का रहने वाला है. आज की रिपोर्ट कहती है, कैदी की पत्नी रंजीता पटेल ने 2 साल पहले वकील गणेश शर्मा के माध्यम से पटना के कोर्ट में अपने परिवार का वंश बढ़ाने के लिए पति को पैरोल पर छोड़ने के लिए याचिका दायर की थी.

आखिरकार पत्नी रंजीता हाईकोर्ट से मंजूरी लेकर रही, संतान उत्पत्ति के लिए कोर्ट द्वारा पैरोल पर कैदी को जाने देने का यह मामला कुछ नया है, क्योंकि ऐसा मामला शायद ही पहले सुनने को मिला हो. बता दें परिवार में किसी की मौत या शादी व्याह आदि के लिए कोर्ट से पैरोल पर पहले भी इजाजत मिलती आई हैं लेकिन यह किस्सा चर्चा का विषय बना हुआ है.

यह भी पढ़ें:  Munmun Dutta: दलितों को क्या बोल गई एक्ट्रेस मुनमुन, गिरफ्तारी की मांग करते यूजर्स ने बताई असली खूबसूती की परिभाषा

आज तक की रिपोर्ट कहती है कैदियों के हितों की रक्षा, कानून अधिकार के लिए जिला विधिक सेवा प्राधिकार नालंदा से नियुक्त जेल विजिटर अधिवक्ता देवेंद्र शर्मा की सलाह पर कोर्ट ने 15 दिन का यह फैसला लिया है.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top