Assam: आईपीएस ऑफिसर पर सहकर्मी की नाबालिग बेटी का यौन उत्पीड़न का आरोप, खुद की पार्टी में की थी हरकत

JBT Staff
JBT Staff May 20, 2021
Updated 2021/05/20 at 12:29 PM

Assam: क्या किया जाए जब रक्षक पर ही भक्षक बनने का आरोप लगे, एक जिम्मेदार पद पर पहुंचने वाले शख्स पर अगर आरोप सही साबित होते हैं तो लोगों का बड़ा मनोबल टूटता है. मामला असम के चिरांग जिले के एसपी के खिलाफ नाबालिग के यौन शोषण का है, घटना 31 दिसंबर 2019 की बताई जा रही है.

आज तक की रिपोर्ट का का कहना है वरिष्ठ अधिकारी ने साल 2019 के आखिरी दिन या कहें न्यू इयर ईव सेलिब्रेट करने के लिए अपने सरकारी आवास पर पार्टी आयोजित की, असम के कार्बी आंगलोंग जिले के दिफू में चल रही इस पार्टी का रंग उस वक्त उड़ गया जब सहकर्मी की 14 साल की बेटी के साथ यौन उत्पीड़न का मामला प्रकाश में आया.

मामले में असम पुलिस द्वारा आरोप पत्र दायर किया गया, 31 मार्च को आईपीसी धारा 354, 354A व यौन अपराधों से बच्चों के संरक्षण पॉक्सो एक्ट के तरह आरोप पत्र दायर किया गया था. पीड़िता व उसकी मां द्वारा पिहले साल जनवरी में शिकायत दर्ज की गई थी.

मामले की जांच के बाद चार्जशीट दायर की गई है, सुनवाई बहुत जल्द होने वाली है. आईपीएस ऑफिसर का नाम गौरव उपाध्याय बताया जा रहा है, 14 मई को उन्हें असम सरकार के गृह ए विभाग द्वारा चिरांग जिले के पुलिस अधीक्षक के रुपे में स्थानांतरित किया गया था, इससे पहले वह गुवाहटी में सहायक पुलिस महानिरीक्षक के पद पर थे.

जाहिर सी बात है बड़े पद पर तैनात ऑफिसर अपने को बचने की पूरी कोशिश करेंगे, लेकिन इस तरह की वारदात बेहद चिंताजनक है. सवाल ये उठने लगते हैं आखिर बहू-बेटियां कहां सुरक्षित हैं, आए दिन दुष्कर्म व यौन शोषण के मामने बढ़ते जा रहे हैं, रक्षक भी भक्षकों में शामिल हो जाये तो उम्मीद किससे की जाए.

TAGGED: ,
Share this Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.