Gangotri Assembly 2021: गंगोत्री उपचुनाव में भाजपा को सहानुभूति मिलेगी या फिर कर्नल अजय कोठियाल लायेंगे बदलाव

JBT Staff
JBT Staff July 2, 2021
Updated 2021/07/02 at 11:33 AM

Gangotri Assembly 2021: सल्ट के बाद गंगोत्री में भारतीय जनता पार्टी का इम्तिहान होने जा रहा है खैर इम्तिहान प्रदेश के मुखिया तीरथ सिंह रावत का भी है. इस वक्त 2 विधानसभा सीटें खाली हैं, हल्द्वानी व गंगोत्री में से गंगोत्री विधानसभा सीट को सीएम साहब के लिए सेफ बनाने की योजना चल रही है.

आम आदमी पार्टी ने रिटायर्ड कर्नल अजय कोठियाल (Ajay Kothiyal) को आते ही बड़ी जिम्मेदारी सौंप डाली है, उन्होंने गंगोत्री सीट से सीधा सीएम तीरथ सिंह रावत (CM Tirath Singh Rawat) को चैलेंज करते हुए कहा कि भाजपा ने पिछले चार सालों में प्रदेश को बर्बाद कर दिया है.

वहीं खबर आ रही है कि कुमाऊं मंडल के रिक्त विधानसभा सीट हल्द्वानी से ज्यादा गढ़वाल मंडल के विधानसभा सीट गंगोत्री को सीएम के लिए सेफ मानी जा रही है, इसपर पार्टी को सहानुभूति भी मिलेगी, आपको बता दें गंगोत्री से बीजेपी के गोपाल सिंह रावत (Gopal Singh Rawat) विधायक थे, अप्रैल में कैंसर की लम्बी बिमारी के बाद उनका निधन हो गया था.

पिछले विधानसभा चुनावों में उन्होंने कांग्रेस के विजय पाल सजवाण को 9 हजार 610 वोटों से पराजित किया था, देखा जाए तो क्षेत्र में बीजेपी का पलड़ा भारी है लेकिन जिस तरह प्रदेश में बदलाव की आग सुलग रही है उससे अंदाजा कुछ और भी लगाया जा सकता है.

वहीं हाल ही 2 हफ्ते पहले कांग्रेस की दिग्गज नेत्री इंदिरा हृदियेश का स्वर्गवास हो गया था, वह प्रदेश में नेता प्रतिपक्ष का चेहरा थी, इस सीट पर कांग्रेस का बोलबाला है इसलिए सीएम यहां से तो चुनावी मैदान में नहीं उतरेंगे. 22 अप्रैल को गोपाल सिंह रावत का निधन हुआ था जिसके बाद से गंगोत्री विधानसभा सीट खाली पड़ी है, सीएम कुर्सी पर कायम रहने के लिए तीरथ सिंह रावत यहां इ चुनाव लड़ सकते हैं.

वहीं कांग्रेस शायद फिर एक बाद विजय पाल सजवाण को मैदान में उतारे, देखा जाए तो ऐसे में तीरथ सिंह रावत के सामने सीएम कुर्सी बचानी इतनी आसान नहीं आती है.

Share this Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.