Life Style

National Sports Day 2021: कब और क्यों मनाया जाता है राष्ट्रीय खेल दिवस, इस बार है बेहद खास

National Sports Day 2021: राष्ट्रीय खेल दिवस कई देशों में मनाया जाता है, खेलों व खिलाड़ियों के सम्मान को यह दिन समर्पित होता है. भारत में राष्ट्रीय खेल दिवस हॉकी के महान खिलाड़ी मेजर ध्यानचंद की जयंती के दिन मनाया जाता है.

आजादी से पहले जिस खिलाड़ी ने ओलिंपिक में देश का नाम विश्वस्तर पर ऊंचा किया था, सालों बाद भी ऐसा धावक भारत में आज तक पैदा नहीं हुआ. हॉकी के ऐसे अद्भुत खिलाड़ी मेजर ध्यानचंद (Major Dhyan Chand) की जयंती पर देश में युवाओं को खेलों व फिटनेस के लिए प्रोत्साहित किया जाता है.

धयान चंद ने अपने करियर में 400 से अधिक गोल किए थे, उन्होंने देश के लिए एम्सटर्डम (1928), लास एंजिल्स (1932), व बर्लिन (1936) के ओलिंपिक में गोल्ड मैडल अपने नाम किया था. वह देश के बड़े खेल सम्मान जैसे राजीव गांधी खेल रत्न, द्रोणाचार्य पुरुस्कार व अर्जुन पुरुस्कार से सम्मानित तो हैं ही साथ उन्हें 1946 में स्पोर्ट्स में देश का मान सम्मान बढ़ाने के लिए पद्म भूषण से भी सम्मानित किया गया था.

कब मनाया जाता है राष्ट्रीय खेल दिवस (National Sports Day 2021)

भारत ही नहीं विश्व हॉकी इतिहास की भी बात की जाए तो मेजर ध्यान चंद का नाम महान खिलाड़ियों की लिस्ट में आता है. देश के कई जाने माने लोग व संगठन मेजर ध्यान चंद को भारत रत्न से सम्मानित करने की मांग करते हैं. ध्यान चंद का जन्म 29 अगस्त 1905 में इलाहाबाद (अब प्रयागराज) में हुआ था, यह दिन अब राष्ट्रीय खेल दिवस (National Sports Day) के रूप में मनाया जाता है.

ध्यान चंद को हॉकी के लिए याद किया जाता है लेकिन सेना में भी उनकी पदोन्नति होती रही, वह पहले सूबेदार, फिर लेफ्टिनेंट व कैप्टेन बने और बाद में मेजर बने थे जबकि हॉकी का तो उन्हें जादूगर तक कहा जाता है.

ध्यान चंद ने जब हिटलर का ऑफर ठुकरा दिया था

मशहूर शासक हिटलर ने साल 1936 में मेजर ध्यान चंद के खेल से प्रभावित होकर उन्हें रात्रिभोज पर आमंत्रित किया था, हद तो तब हो गई जब हिटलर ने भारत के महान खिलाड़ी को अपने मुल्क जर्मनी की तरफ से खेलने के ऑफर दे डाला लेकिन उन्होंने इसे ठुकरा दिया था.

हॉकी के जादूगर मेजर ध्यान चंद के 117वीं जयंती से पहले सरकार का बड़ा ऐलान

मेजर ध्यान चंद की 117वीं जयंती या कहें राष्ट्रीय खेल दिवस 2021 (National Sports Day 2021) से पहले देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने सबसे बड़े खेल सम्मान को स्वर्गीय खिलाड़ी के नाम पर करने की घोषणा की है, अब राजीव गांधी खेल रत्न पुरुस्कार बन चुका है मेजर ध्यानचंद खेल रत्न पुरुस्कार (Rajiv Gandhi Khel Ratna Award turned Major Dhyan Chand Khel Ratna Award), इसलिए इस बार के खेल दिवस को बेहद खास कह सकते हैं, इस सम्मान से सरकार के विरोधी दलों में भी सहमति देखने को मिल रही है:

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

To Top